1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. राजधानी लखनऊ के नगराम इलाके में छात्रा का शव मिला, जांच में जुटी पुलिस

राजधानी लखनऊ के नगराम इलाके में छात्रा का शव मिला, जांच में जुटी पुलिस

यूपी (UP)की राजधानी लखनऊ के नगराम थाना क्षेत्र (Nagaram police station) के असली गढ़ी गांव में मंगलवार सुबह बीए की छात्रा का शव संदिग्ध परिस्थितियों में खेत में पड़ा मिला है। शव की हालत देखकर परिजन छात्रा की हत्या की आंशका जता रहे हैं। पिता की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। यूपी (UP)की राजधानी लखनऊ के नगराम थाना क्षेत्र (Nagaram police station) के असली गढ़ी गांव में मंगलवार सुबह बीए की छात्रा का शव संदिग्ध परिस्थितियों में खेत में पड़ा मिला है। शव की हालत देखकर परिजन छात्रा की हत्या की आंशका जता रहे हैं। पिता की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है।

पढ़ें :- महराजगंज:एमएलसी चुनाव के मतदान स्थलों की तैयारियों का डीएम व एसपी ने लिया जायजा

पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर आगे की कार्रवाई में जुट गई है। मौके पर मौजूद डीसीपी साउथ राहुल राज (DCP South Rahul Raj) ने बताया कि प्राथमिक जांच में पता चला है कि हत्या के बाद छात्रा को दूसरी जगह फेंका गया है, क्योंकि घटनास्ठल से उसकी चप्पलें और शौच के लिए ले गई पानी का डिब्बा नहीं मिला है।

पुलिस के अनुसार, नगराम थाना क्षेत्र (Nagaram police station) के असली गढ़ी गांव में मंगलवार सुबह छात्रा नैन्सी यादव का शव गांव के बाहर खेत में पड़ा मिला था। ग्रामीणों ने छात्रा का शव देखा तो छात्रा के परिजनों को सूचना दी। मौके पर पहुंचे छात्रा के पिता ने पुलिस को सूचना दी। नगराम पुलिस (Nagaram police) ने छात्रा का शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम (Post-Mortem) के लिए भेज दिया है।

नैंसी यादव (Student Nancy Yadav)  मोहनलाल गंज के महेश प्रसाद डिग्री कॉलेज (Mahesh Prasad Degree College, Mohanlal Ganj) में बीए द्वितीय वर्ष में पढ़ाई कर रही थी। छात्रा के पिता रामजी यादव (Ramji Yadav) का कहना है कि मंगलवार सुबह बेटी शौच के लिए खेत की ओर गई थी। काफी देर वापस नहीं आने पर हम लोगों ने उसे ढूंढना शुरू किया। इस बीच उसका शव खेत में पड़ा होने की सूचना मिली। हमें यकीन है कि मेरी बेटी ने सुसाइड नहीं किया है। मेरी बेटी की हत्या की गई है। बचने के लिए उसने संघर्ष किया है, क्योंकि उसके कपड़ों पर कीचड़ लगा है। जबकि आस-पास कहीं भी खेतों में पानी नहीं लगा था। ऐसा लग रहा था कि बेटी की हत्या कहीं और की गई और यहां बाग के पास उसकी लाश फेंकी गई है।

पढ़ें :- गौतम अडानी का साम्राज्य तबाह करने वाले नाथन एंडरसन जानें कौन हैं?

नैंसी अपने माता-पिता की सबसे बड़ी बेटी थी। उसकी तीन छोटी बहनें निशी, मानसी, शिवांशी और एक भाई शिवम है। इसी कॉलेज में नैंसी के साथ उसकी छोटी बहन निशी भी बीए फर्स्ट ईयर में पढ़ती है। पिता किसान हैं। खेती-बाड़ी कर घर का खर्च चलाते हैं।

मां बोली- अंधेरे और कोहरे में हम आगे-पीछे हो गए

मां कमला देवी (Mother Kamala Devi) ने बताया कि नैंसी सबसे आगे चल रही थी। उसके पीछे मैं अपनी छोटी बेटी के साथ थी। घने कोहरे और अंधेरे की वजह से नैंसी काफी आगे निकल गई थी। हम लोग पीछे ही रुक गए। उसके बाद हम लोग घर लौट आए, लेकिन नैंसी नहीं आई। हमें लगा कि वह दूर गई है और कुछ देर में लौट आएगी। करीब साढ़े 8 बजे तक जब नैंसी नहीं लौटी, तो हम लोगों ने उसकी तलाश शुरू की।

पढ़ें :- जिस देश के युवा उत्साह और जोश से भरे हुए हों, उस देश की प्राथमिकता सदैव युवा ही होंगे: पीएम मोदी

डीसीपी साउथ राहुल राज (DCP South Rahul Raj) ने बताया कि छात्रा बीए सेकंड ईयर की पढ़ाई कर रही थी। उसके शरीर पर कोई भी चोट के निशान नहीं हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट (Post-Mortem Report) आने के बाद मौत के कारणों का पता चल पाएगा। परिजन जो भी तहरीर देंगे उसके आधार पर मुकदमा दर्ज कर कर आगे की जांच की कार्रवाई की जाएगी।

 

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...