शारीरिक संबंध बनाने के आरोपों से परेशान युवक ने काट लिया अपना गुप्तांग

नई दिल्ली। देश की राजधानी में एक हैरान करने वाली घटना सामने आई है जहां एक युवक ने महज इस बात पर अपना गुप्तांग काट लिया क्योकि उसे ऐसा प्रतीत हुआ कि पड़ोसी उस पर अपनी मां-बहन से शारीरिक संबंध बनाने का आरोप लगा रहे हैं। बताया रहा है कि रेहान कपाड़िया अपने बेडरूम में था कि उसे अपने पड़ोसियों को उसके शारीरिक संबंधों के बारे में गपशप करते हुए सुना। रेहान को लगा कि पड़ोसी उसकी मां-बहन को लेकर उसके शारीरिक संबंधो के बारे में गलत अटकले लगा रहे हैं। बार-बार पड़ोसियों को इस बारे में बात करता देख वह सहन नहीं कर पाया और गुस्से में आकर उसने अपना गुप्तांग काट लिया।



था पागलपन का शिकार
इस घटना के बाद रेहान के परिजन उसे तुरंत ही सर गंगा राम अस्पताल लेकर गए जहां पर डॉक्टरों को जांच में पता चला कि रेहान एक तरह के पागलपन से गुजर रहा है। डॉक्टरों का कहना है कि पड़ोसियों द्वारा उसके रिश्ते के बारे में बात करना महज उसकी कल्पना है। उन्होंने बताया कि रेहान शिज़ोफेरनिया से गुजर रहा है जो कि एक तरह का पागलपन है जिसमें व्यक्ति जो नहीं हो रहा होता उसकी कल्पना करके उसे खुद से जोड़ लेता है। अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि रेहान ही ऐसा पहला केस नहीं है जिसने केवल काल्पनिक आधार पर अपना गुप्तांग काटा हो। इस तरह के चार केस अस्पताल में पहले भी आ चुके हैं। डॉक्टरों ने कहा कि इसके पीछ का कारण यह है कि अब आसानी से लोग नेट के जरिए पोर्नोग्राफी वीडियो देख सकते हैं और फिर लोगों का सेक्स के प्रति माइंडसेट बदल जाता है। वे खुद को किसी के साथ भी रिलेट करने लगते हैं और बाद में कल्पना करते हैं कि लोग उनके रिश्तों के बारे में बात कर रहे हैं।



डॉक्टरों के मुताबिक रेहान पिछले 15 सालों से इस बीमारी से जूझ रहा है। रेहान अपने परिवार के साथ पश्चिमी दिल्ली में रहता है। उसके परिवार को लगता था कि रेहान मानसिक रूप से कमजोर है इसलिए उन्होंने कभी भी उसे किसी डॉक्टर को नहीं दिखाया। जिस समय रेहान ने अपना गुप्तांग काटा उस समय घर में उसकी मां और बहन मौजूद थे। रेहान की चिल्लाने की आवाज़ सुनकर दोनों उसके कमरे में भागे तो उन्होंने देखा कि रेहान खून में लतपत पड़ा हुआ था। सर गंगा राम अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि पहले तो रेहान को गुप्तांग को सर्जरी के जरिए फिर से जोड़ने की कोशिश की जाएगी अगर वह नहीं जुड़ पाता है तो इसका विकल्प ढूंढना पड़ेगा।