MBBS छात्र ने दिखाया जज्बा, चलती ट्रेन में कराई महिला की डिलिवरी

नागपुर। एमबीबीएस फाइनल इयर के 24 साल के स्टूडेंट ने हौसला दिखते हुए एक ऐसे कारनामे को अंजाम दिया है जिसे सुन हर मेडिकल स्टूडेंट का सीना गर्व से चौड़ा हो जाएगा। दरअसल अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस में सफर के दौरान एक युवा डॉक्टर ने सीनियर्स से वॉट्सऐप पर मिले निर्देशों को फॉलो करते हुए ट्रेन में ही महिला का प्रसव कराया। जिसके बाद से इस युवा स्टूडेंट के इस सरहनीय कार्य की हर ओर प्रशंसा हो रही है।



बताया जा रहा है कि विपिन नामक यह युवा नागपुर के सरकारी मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल में एमबीबीएस के आखिरी साल का स्टूडेंट है। घटना उस वक्त की है जब शुक्रवार को सफर के दौरान उन्हें 24 साल की गर्भवती महिला चित्रलेखा के प्रसव पीड़ा से कराह रही थी और ट्रेन में चाहते हुए भी कोई मदद नहीं कर पा रह था। ट्रेन नागपुर से 30 किमी. दूर ट्रेन थी।



विपिन बताते हैं, ‘मैं चुप रहा क्योंकि मुझे लगा कि रेलवे प्रशासन मदद जरूर करेगा लेकिन जब गार्ड और टीसी आ कर देख कर चले गए तब मैंने उन्हें मदद का ऑफर दिया।’ इसके बाद डिलिवरी कराने जब मैं पहुंचा तो मैंने देखा कि प्रेगनेंट चित्रलेखा के शरीर से खून बह रहा था और वह बहुत अधिक दर्द में थीं। महिला की मदद के लिए लोगों ने कंपार्टमेंट को खाली कर दिया था और महिला सहयात्रियों ने इसे डिलिवरी रूम बना दिया। मेरे लिए डिलिवरी मुश्किल थी क्योंकि बच्चे के सिर की जगह कंधे बाहर की तरफ निकल रहे थे। मैंने डॉक्टरों के ग्रुप वॉट्सऐप पर यह तस्वीर डाली ताकि सीनियर डॉक्टरों से मदद ले सकूं।’



विपिन के मुताबिक जब तक महिला ने सफलतापूर्वक बच्चे को जन्म नहीं दे दिया, तब तक उनकी सांसें भी अटकी हुई थीं, लेकिन महिला की सकुशल डिलीवरी के बाद वहां सभी ने राहत की सांस ली। विपिन के इस जज्बे का वहां मौजूद सभी लोगों ने खूब स्वागत किया। विपिन ने भी कहा कि वह एक सर्जन बनकर लोगों की मदद करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि हर डॉक्टर को विपरीत परिस्थितियों में महिला की मदद करने की जानकारी होनी चाहिए और उन्हें इसके लिए हर वक्त आगे आना चाहिए। नागपुर में महिला को रेलवे अस्पताल के डॉक्टरों के हवाले कर दिया गया, जिसके बाद डॉक्टरों ने महिला को कुछ दवाई देने के बाद उसे यात्रा करने की इजाजत भी दे दी