बिहार: बदमाशों ने शिक्षक को गोली मारकर उतारा मौत के घाट

begusaray teacher murder
बिहार: बदमाशों ने शिक्षक को गोली मारकर उतारा मौत के घाट

बेगुसराय। बिहार के बेगुसराय में में शुक्रवार रात एक शिक्षक पर गोलियां बरसाकर मौत के घाट उतार दिया। मामला रतनपुर ओपी क्षेत्र के पिपरा का है। 55 वर्षीय शिक्षक अनिल सिंह देर रात कोचिंग पढ़ाकर लौट रहे थे तभी पिपरा-डुमरी सड़क पर उन्हे रोंक लिया और फिर उन्हे मौत की नींद सुला दी। बदमाशों ने अनिल को पांच गोलियां मांरी। घटना के बाद बदमाश आराम से हथियार लहराते चलते बने।

A Teacher Shot Dead By Criminals In Begusaray Bihar On Friday Night :

मामले की जानकारी होते ही इलाके में हड़कंप मच गया। सूचना पर रतनपुर थानाध्यक्ष राजीव कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच मामले का जायजा लिया। पुलिस ने घटना स्थल के पास चार खोखे बरामद किए गए है। शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया।

मृतक मूल रूप से शेखपुरा जिले के पैन गांव के रहने वाले थे। वह पिछले 25 साल से बेगूसराय में रहकर ट्यूशन पढ़कर जीवन-यापन करते थे। इसके साथ ही एलआईसी का भी काम करते थे। शुक्रवार रात वो टाउनशिप से ट्यूशन पढ़ाकर साइकिल से घर लौट रहे थे। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। परिजनों ने बताया कि उनकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी।

बेगुसराय। बिहार के बेगुसराय में में शुक्रवार रात एक शिक्षक पर गोलियां बरसाकर मौत के घाट उतार दिया। मामला रतनपुर ओपी क्षेत्र के पिपरा का है। 55 वर्षीय शिक्षक अनिल सिंह देर रात कोचिंग पढ़ाकर लौट रहे थे तभी पिपरा-डुमरी सड़क पर उन्हे रोंक लिया और फिर उन्हे मौत की नींद सुला दी। बदमाशों ने अनिल को पांच गोलियां मांरी। घटना के बाद बदमाश आराम से हथियार लहराते चलते बने। मामले की जानकारी होते ही इलाके में हड़कंप मच गया। सूचना पर रतनपुर थानाध्यक्ष राजीव कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच मामले का जायजा लिया। पुलिस ने घटना स्थल के पास चार खोखे बरामद किए गए है। शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। मृतक मूल रूप से शेखपुरा जिले के पैन गांव के रहने वाले थे। वह पिछले 25 साल से बेगूसराय में रहकर ट्यूशन पढ़कर जीवन-यापन करते थे। इसके साथ ही एलआईसी का भी काम करते थे। शुक्रवार रात वो टाउनशिप से ट्यूशन पढ़ाकर साइकिल से घर लौट रहे थे। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। परिजनों ने बताया कि उनकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी।