इस तरह के आधार नहीं होंगे मान्य, UIDAI ने दी चेतावनी

मात्र इतने दिनों में नहीं कराया आधार कार्ड को PAN से लिंक तो हो जाएगा बेकार
मात्र इतने दिनों में नहीं कराया आधार कार्ड को PAN से लिंक तो हो जाएगा बेकार

नई दिल्ली। अगर आप भी अपने आधार कार्ड (Aadhaar Card) में लैमिनेशन कराया है या फिर उसे प्लास्टिक कार्ड (Plastic Card) के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं तो अब आप भी सावधान हो जाइए। UIDAI ने इसके पहले भी कई बार चेतावनी जारी की है। UIDAI द्वारा जारी की गई चेतावनी में कहा गया है कि ऐसा करने से आपके आधार का क्यूआर कोड काम करना बंद कर सकता है या फिर निजी जानकारी भी चोरी हो सकती है। UIDAI ने बताया कि ऐसा करने पर आपकी मंजूरी के बिना ही आपकी निजी जानकारी किसी और के पास पहुंच सकती हैं।

Aadhaar Card With Plastic Lamination Is Not Valid Uidai Smart Aadhaar :

न करें स्मार्ट कार्ड का इस्तेमाल

  • आधार स्मार्ट कार्ड्स की प्रिटिंग पर 50 रुपये से लेकर 300 रुपये तक का खर्च आता है, जो पूरी तरह से गैर-जरूरी है।
  • यूआईडीएआई ने कहा है कि प्लास्टिक या पीवीसी आधार स्मार्ट कार्ड्स अक्सर गैर-जरूरी होते हैं, इसकी वजह यह होती है कि क्विक रेस्पॉन्स कोड आमतौर पर काम करना बंद कर देता है।
  • इस तरह की गैर-अधिकृत प्रिंटिंग से क्यूआर कोड काम करना बंद कर सकता है।

आधार एजेंसी की ओर से जारी बयान में कहा गया, यह भी संभावना है कि आपकी मंजूरी के बिना ही गलत तत्वों तक आपकी निजी जानकारी साझा हो जाए। यूआईडीएआई प्लास्टिक का भी मानना है कि आधार स्मार्ट कार्ड पूरी तरह से गैर-जरूरी और व्यर्थ है। सामान्य कागज पर डाउनलोड किया गया आधार कार्ड या फिर मोबाइल आधार कार्ड पूरी तरह से वैलिड है।

`

नई दिल्ली। अगर आप भी अपने आधार कार्ड (Aadhaar Card) में लैमिनेशन कराया है या फिर उसे प्लास्टिक कार्ड (Plastic Card) के तौर पर इस्तेमाल कर रहे हैं तो अब आप भी सावधान हो जाइए। UIDAI ने इसके पहले भी कई बार चेतावनी जारी की है। UIDAI द्वारा जारी की गई चेतावनी में कहा गया है कि ऐसा करने से आपके आधार का क्यूआर कोड काम करना बंद कर सकता है या फिर निजी जानकारी भी चोरी हो सकती है। UIDAI ने बताया कि ऐसा करने पर आपकी मंजूरी के बिना ही आपकी निजी जानकारी किसी और के पास पहुंच सकती हैं। न करें स्मार्ट कार्ड का इस्तेमाल
  • आधार स्मार्ट कार्ड्स की प्रिटिंग पर 50 रुपये से लेकर 300 रुपये तक का खर्च आता है, जो पूरी तरह से गैर-जरूरी है।
  • यूआईडीएआई ने कहा है कि प्लास्टिक या पीवीसी आधार स्मार्ट कार्ड्स अक्सर गैर-जरूरी होते हैं, इसकी वजह यह होती है कि क्विक रेस्पॉन्स कोड आमतौर पर काम करना बंद कर देता है।
  • इस तरह की गैर-अधिकृत प्रिंटिंग से क्यूआर कोड काम करना बंद कर सकता है।
आधार एजेंसी की ओर से जारी बयान में कहा गया, यह भी संभावना है कि आपकी मंजूरी के बिना ही गलत तत्वों तक आपकी निजी जानकारी साझा हो जाए। यूआईडीएआई प्लास्टिक का भी मानना है कि आधार स्मार्ट कार्ड पूरी तरह से गैर-जरूरी और व्यर्थ है। सामान्य कागज पर डाउनलोड किया गया आधार कार्ड या फिर मोबाइल आधार कार्ड पूरी तरह से वैलिड है। `