आधार हुआ और भी सेफ, UIDAI ने पेश किया वर्चुअल आईडी, ऐसे करें जनरेट

aadhar ,वर्चुअल आईडी,
कल से आधार कार्ड की जगह वर्चुअल आईडी होगा अनिवार्य

आधार का डाटा सुरक्षित करने के लिए आधार अथॉरिटी ने अब इसकी सुरक्षा को और बेहतर करने के लिए कदम उठाए हैं। यानि जहां आपको आधार की पूरी डीटेल देनी पड़ती थी वहीं अब आप वर्चुअल आईडी देंगे। वर्चुअल आईडी की सुविधा 1 मार्च से शुरू की जाएगी और 1 जून से सभी एजेंसियों के लिए अनिवार्य कर दिया जाएगा।

Aadhar Card How To Generate Virtual Id :

क्या है वर्चुअल आईडी

वर्चुअल आईडी दरअसल एक 16 अंको का कोड होगा जो आधार नंबर की जगह उपयोग किया जा सकेगा। इसके चलते सुविधाओं का लाभ लेने के लिए 12 अंकों वाला आधार नंबर देना अनिवार्य नहीं होगा। इसके बदले लोग वर्चुअल आइडी का इस्तेमाल कर सकेंगे। इससे लोगों की पहचान सुरक्षित रहेगी। साथ ही “अपने ग्राहक को जानो” की सुविधा को भी सीमित किया जाएगा। वर्चुअल आइडी हर जगह आधार नंबर देने की मजबूरी खत्म कर देगी। इससे आधार के विवरण मसलन नाम, उम्र, पता आदि भी सुरक्षित रखे जा सकेंगे।

कैसे करें जनरेट

आधार की जगह वर्चुअल आईडी जनरेट करने के लिए आधार कार्ड धारक को यूआईडीएआई की वेबसाइट पर जाना होगा। वेबसाइट पर एक टैब दिया जाएगा जिसके माध्यम से आप अपना वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेंगे। यह वर्चुअल आईडी अनगिनत बार जनरेट किया जा सकेगा और नया आईडी जनरेट होते ही पुराना बेकार हो जाएगा। इसकी खास बात यह रहेगी कि वर्चुअल आइडी की नकल नहीं की जा सकेगी।

देश में 119 करोड़ आधार कार्ड

यूआईडीएआइ ने कहा है कि हाल के दिनों में आधार की निजता को लेकर कई सवाल उठे हैं। इसे ध्यान में रखते हुए आधार को और मजबूत करने के लिए नई प्रक्रियाएं शुरू की गई हैं। उल्लेखनीय है कि अब तक देश में 119 करोड़ आधार कार्ड बनाए जा चुके हैं। बैंक, टेलीकॉम, सार्वजनिक वितरण और आयकर जैसे विभागों में इसका उपयोग किया जा रहा है।

आधार का डाटा सुरक्षित करने के लिए आधार अथॉरिटी ने अब इसकी सुरक्षा को और बेहतर करने के लिए कदम उठाए हैं। यानि जहां आपको आधार की पूरी डीटेल देनी पड़ती थी वहीं अब आप वर्चुअल आईडी देंगे। वर्चुअल आईडी की सुविधा 1 मार्च से शुरू की जाएगी और 1 जून से सभी एजेंसियों के लिए अनिवार्य कर दिया जाएगा।क्या है वर्चुअल आईडीवर्चुअल आईडी दरअसल एक 16 अंको का कोड होगा जो आधार नंबर की जगह उपयोग किया जा सकेगा। इसके चलते सुविधाओं का लाभ लेने के लिए 12 अंकों वाला आधार नंबर देना अनिवार्य नहीं होगा। इसके बदले लोग वर्चुअल आइडी का इस्तेमाल कर सकेंगे। इससे लोगों की पहचान सुरक्षित रहेगी। साथ ही "अपने ग्राहक को जानो" की सुविधा को भी सीमित किया जाएगा। वर्चुअल आइडी हर जगह आधार नंबर देने की मजबूरी खत्म कर देगी। इससे आधार के विवरण मसलन नाम, उम्र, पता आदि भी सुरक्षित रखे जा सकेंगे।कैसे करें जनरेटआधार की जगह वर्चुअल आईडी जनरेट करने के लिए आधार कार्ड धारक को यूआईडीएआई की वेबसाइट पर जाना होगा। वेबसाइट पर एक टैब दिया जाएगा जिसके माध्यम से आप अपना वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेंगे। यह वर्चुअल आईडी अनगिनत बार जनरेट किया जा सकेगा और नया आईडी जनरेट होते ही पुराना बेकार हो जाएगा। इसकी खास बात यह रहेगी कि वर्चुअल आइडी की नकल नहीं की जा सकेगी।देश में 119 करोड़ आधार कार्डयूआईडीएआइ ने कहा है कि हाल के दिनों में आधार की निजता को लेकर कई सवाल उठे हैं। इसे ध्यान में रखते हुए आधार को और मजबूत करने के लिए नई प्रक्रियाएं शुरू की गई हैं। उल्लेखनीय है कि अब तक देश में 119 करोड़ आधार कार्ड बनाए जा चुके हैं। बैंक, टेलीकॉम, सार्वजनिक वितरण और आयकर जैसे विभागों में इसका उपयोग किया जा रहा है।