आयुष्मान भारत: दूसरी बार इलाज के वक्त लाभार्थी को देना होगा आधार

aayushmaan yojna
आयुष्मान भारत: दूसरी बार इलाज के वक्त लाभार्थी को देना होगा आधार

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा हाल ही में शुरु की गई आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना शुरू की है। इस योजना को दुनिया की सबसे बड़ी योजना माना जा रहा है। जिसके तहत देश के करीब पचास हजार परिवारों का इसका लाभ मिलेगा। बताया जा रहा है कि इस योजना का लाभ यदि कोई ​व्यक्ति पहली बार ले रहा है तो उसे आधार कार्ड जरूरी नहीं होगा, लेकिन दूसरी बार इलाज कराने के दौरान लाभार्थी को आधार कार्ड दिखाना पड़ेगा।

Aadhar Will Be Mendentory At Second Time Treatment In Aayshmaan Yojna :

इस लाभकारी योजना के क्रियान्यन के लिए जिम्मेदार राष्ट्रीय स्वास्थ्य एजेंसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी इंदू भूषण ने बताया कि दूसरी बार इलाज की स्थिति में यदि किसी के पास आधार नहीं है तो लाभार्थी को कम से कम यह साबित करने के लिए दस्तावेज पेश करने होंगे कि वो इसके लिए रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं।

ये फैसला तब लिया गया गया है, जब सुप्रीम कोर्ट आधार योजना को संवैधानिक रुप से वैध ठहरा चुका है। इंदू भूषण ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अध्ययन कर रहे हैं। आधार संख्या या यह साबित करने के लिए कम से कम ऐसे दस्तावेज कि व्यक्ति ने 12 अंक की विशिष्ट पहचान संख्या के लिए पंजीकरण कराया है, इस योजना के तहत दूसरी बार उपचार के लिए अनिवार्य होगा।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा हाल ही में शुरु की गई आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना शुरू की है। इस योजना को दुनिया की सबसे बड़ी योजना माना जा रहा है। जिसके तहत देश के करीब पचास हजार परिवारों का इसका लाभ मिलेगा। बताया जा रहा है कि इस योजना का लाभ यदि कोई ​व्यक्ति पहली बार ले रहा है तो उसे आधार कार्ड जरूरी नहीं होगा, लेकिन दूसरी बार इलाज कराने के दौरान लाभार्थी को आधार कार्ड दिखाना पड़ेगा। इस लाभकारी योजना के क्रियान्यन के लिए जिम्मेदार राष्ट्रीय स्वास्थ्य एजेंसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी इंदू भूषण ने बताया कि दूसरी बार इलाज की स्थिति में यदि किसी के पास आधार नहीं है तो लाभार्थी को कम से कम यह साबित करने के लिए दस्तावेज पेश करने होंगे कि वो इसके लिए रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं। ये फैसला तब लिया गया गया है, जब सुप्रीम कोर्ट आधार योजना को संवैधानिक रुप से वैध ठहरा चुका है। इंदू भूषण ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अध्ययन कर रहे हैं। आधार संख्या या यह साबित करने के लिए कम से कम ऐसे दस्तावेज कि व्यक्ति ने 12 अंक की विशिष्ट पहचान संख्या के लिए पंजीकरण कराया है, इस योजना के तहत दूसरी बार उपचार के लिए अनिवार्य होगा।