Amalaki Ekadeshi 2020: आज है आमलकी एकादशी, भूल से भी न करें ये काम

Amalaki Ekadeshi 2020: आज है आमलकी एकादशी, भूल से भी न करें ये काम
Amalaki Ekadeshi 2020: आज है आमलकी एकादशी, भूल से भी न करें ये काम

लखनऊ। आज यानि 6 मार्च को आमलकी एकादशी मनाई जा रही है। इस दिन आंवले के रूप में भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। मान्यताओं के अनुसार आमलकी एकादशी के दिन विधि-विधान व्रत करने से सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। आमलकी एकादशी के दिन सच्चे मन से जो भी भगवान विष्णु की पूजा करता है और मंत्रों का जाप करता है उसे एक हजार गोदान के फल के बराबर पुण्य मिलता है।

Aamalaki Ekadasi 2020 Vrat Puja Vidhi Do Not Do These Work Today :

इस विधि से करें भगवान विष्णु की पूजा

  • जो भक्त आमलकी एकादशी के दिन व्रत रखते हैं, उन्हें प्रातः काल उठकर स्नान आदि करके भगवान विष्णु का ध्यान करते हुए व्रत का संकल्प लेना चाहिए।
  • इसके बाद श्री विष्णु जी की पूजा करने के लिए धूप, दीप, चंदन, फल, तिल, एवं पंचामृत चढ़ाएं।
  • आमलकी एकादशी के दिन रात को विष्णु भगवान की अराधना में जागरण करना चाहिए।
  • इस दिन व्रत रखने वाले लोगों को केवल सात्विक भोजन की करना चाहिए।- घी का दीपक जलाकर विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें।
  • जो लोग व्रत नहीं करते हैं, वे भी विष्णु जी को आंवले का भोग लगाकर फिर खुद इसका प्रसाद खाएं।

भूलकर भी न करें ये काम

  • इस दिन प्याज, लहसुन, मांस, मदिरा जैसी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • आमलकी एकादशी के दिन जो लोग मांस-मदिरा का सेवन करते हैं उन्हें नर्क के समान यातनाएं झेलनी पड़ती है।
    किसी भी प्रकार की हिंसा मत करें।
  • आज के दिन घर के दरवाजे पर कोई गरीब व्यक्ति आता है तो उसे भूखा न जानें दे। इस दिन दान-पुण्य का विशेष महत्व है।
लखनऊ। आज यानि 6 मार्च को आमलकी एकादशी मनाई जा रही है। इस दिन आंवले के रूप में भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। मान्यताओं के अनुसार आमलकी एकादशी के दिन विधि-विधान व्रत करने से सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। आमलकी एकादशी के दिन सच्चे मन से जो भी भगवान विष्णु की पूजा करता है और मंत्रों का जाप करता है उसे एक हजार गोदान के फल के बराबर पुण्य मिलता है। इस विधि से करें भगवान विष्णु की पूजा
  • जो भक्त आमलकी एकादशी के दिन व्रत रखते हैं, उन्हें प्रातः काल उठकर स्नान आदि करके भगवान विष्णु का ध्यान करते हुए व्रत का संकल्प लेना चाहिए।
  • इसके बाद श्री विष्णु जी की पूजा करने के लिए धूप, दीप, चंदन, फल, तिल, एवं पंचामृत चढ़ाएं।
  • आमलकी एकादशी के दिन रात को विष्णु भगवान की अराधना में जागरण करना चाहिए।
  • इस दिन व्रत रखने वाले लोगों को केवल सात्विक भोजन की करना चाहिए।- घी का दीपक जलाकर विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें।
  • जो लोग व्रत नहीं करते हैं, वे भी विष्णु जी को आंवले का भोग लगाकर फिर खुद इसका प्रसाद खाएं।
भूलकर भी न करें ये काम
  • इस दिन प्याज, लहसुन, मांस, मदिरा जैसी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • आमलकी एकादशी के दिन जो लोग मांस-मदिरा का सेवन करते हैं उन्हें नर्क के समान यातनाएं झेलनी पड़ती है। किसी भी प्रकार की हिंसा मत करें।
  • आज के दिन घर के दरवाजे पर कोई गरीब व्यक्ति आता है तो उसे भूखा न जानें दे। इस दिन दान-पुण्य का विशेष महत्व है।