आम आदमी पार्टी ने राहुल गांधी से पूछे पांच सवाल

नई दिल्ली। नगर निगम चुनाव में राहुल गांधी की सक्रियता को लेकर आप ने उनसे पांच सवाल किए हैं। आप ने कांग्रेस और भाजपा पर मिलीभगत का आरोप लगाया है। राहुल जी दिल्ली की जनता को बताएं कि एमसीडी में रहते हुए उनकी पार्टी ने कोई एक महत्वपूर्ण काम किया हो। दिल्ली की जनता उस एक काम को जानना चाहेगी।



कांग्रेस पार्टी इस समय अपने आप को दिल्ली की अनिधकृत कालोनियों में रहने वाले लोगों के सामने एक मसीहा के तौर पर प्रस्तुत करने का असफल प्रयास कर रही है जबकि सच्चाई ये है कि अपने राजनीतिक फायदे के लिए चुनाव से ठीक पहले 2008 में राहुल जी की पार्टी ने तकरीबन 1300-1400 कॉलोनियों के बाशिंदों को फर्जी प्रोविजनल र्सटििफकेट बांटे थे। तो दिल्ली की जनता जानना चाहती है कि फर्जी र्सटििफकेट बांटकर दिल्ली की जनता को मूर्ख बनाने के लिए क्या राहुल गांधी जी अपनी पार्टी की तरफ से दिल्ली की जनता से माफी मागेंगे?

दिल्ली नगर निगम में पार्षद भाजपा और कांग्रेस दोनों के हैं और जो भी स्थिति आज एमसीडी की है वो इन दोनों की वजह से ही है लेकिन जब भाजपा शासित एमसीडी जानबूझकर सफाईकर्मिंयों की सैलरी नहीं देती है। कांग्रेस पार्टी इस पूरे ड्रामे में सक्रिय हिस्सेदारी लेती है। कांग्रेस के योगदान से हुई इस कचरे की राजनीति से दिल्ली की जनता को जो तकलीफ हुई है, क्या राहुल गांधी जी दिल्ली की जनता को इस परेशानी के लिए माफी मागेंगे?दअपने कार्यकाल में शीला दीक्षित लगातार कहती रहीं कि बिजली कंपनियों का ऑडिट नहीं हो सकता क्योंकि हाईकोर्ट का स्टे है।




अब आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद हमने पड़ताल की तो पता चला कि ऐसा कोई स्टे है ही नहीं। हमने इसकी जांच शुरू करवाई तो इसके खिलाफ बिजली कंपनियां हाईकोर्ट चली गई। बिजली कंपनियों ने शीला दीक्षित की सरकार के साथ सांठगांठ करके लगभग आठ हज़ार करोड़ रु पए का घोटाला किया है। राहुल गांधी को दिल्ली की जनता को बताना चाहिए कि उनकी पार्टी बिजली कंपनियों के हितों को बचाना चाहती है या दिल्ली की जनता के हितों को सुरक्षित रखना चाहती है?दहम राहुल जी से पूछना चाहते हैं कि 15 साल उनकी पार्टी राज्य की सरकार में रही, इसके पहले एमसीडी को भी वो चला रहे थे, तो 15 साल के कांग्रेस शासनकाल के दौरान दिल्ली में बिजली के दाम क्यों बढ़ते रहे? द एसएनबी

Loading...