आम आदमी पार्टी के विधायक को तीन महीने की सजा, सरकारी काम में बाधा पहुंचाने के मामले में दोषी

aap mla
आम आदमी पार्टी के विधायक को तीन महीने की सजा, सरकार काम में बाधा पहुंचाने के मामले में दोषी

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी के विधायक मनोज कुमार को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने तीन महीने की सजा और दस हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है। मनोज कुमार को सरकार काम में बाधा पहुंचाने के मामले में दोषी ठहराया गया है। हालांकि, आदेश को चुनौती देने के लिए विधायक को जमानत दे दी गई है।

Aap Mla Manoj Kumar Sentence To 3 Months Jail Convict Of Disturbing Electoral Process :

बता दें कि, आम आदमी पार्टी के विधायक मनोज कुमार को 2013 में हुए विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया में बाधा डालने के मामले में दोषी पाया गया है। राउज एवेन्यू की विशेष अदालत ने कुमार को दोषी करार देते हुए 25 जून को सजा पर बहस के लिए मुकर्रर किया था। कोंडली से आप विधायक ​मनोज कुमार को कोर्ट ने यह सजा 2013 से जुड़े उस मामले में सुनाई है, जिसमें दिल्ली विधानसभा चुनावों के दौरान पोलिंग स्टेशन पर मनोज कुमार ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ पोलिंट स्टेशन के आगे बैठकर काम को प्रभावित किया था।

इसके साथ ही सरकारी अधिकारियों के साथ बदसलूकी की थी। तीन साल से कम की सजा होने पर कोर्ट से जमानत मिलने का प्रावधान है। लिहाजा जब सजा सुनाए जाने के बाद मनोज कुमार ने जमानत की अर्जी लगाई तो कोर्ट ने मनोज कुमार को 10 हजार के जमानती मुचलके पर जमानत दे दी है।

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी के विधायक मनोज कुमार को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने तीन महीने की सजा और दस हजार रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई है। मनोज कुमार को सरकार काम में बाधा पहुंचाने के मामले में दोषी ठहराया गया है। हालांकि, आदेश को चुनौती देने के लिए विधायक को जमानत दे दी गई है। बता दें कि, आम आदमी पार्टी के विधायक मनोज कुमार को 2013 में हुए विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया में बाधा डालने के मामले में दोषी पाया गया है। राउज एवेन्यू की विशेष अदालत ने कुमार को दोषी करार देते हुए 25 जून को सजा पर बहस के लिए मुकर्रर किया था। कोंडली से आप विधायक ​मनोज कुमार को कोर्ट ने यह सजा 2013 से जुड़े उस मामले में सुनाई है, जिसमें दिल्ली विधानसभा चुनावों के दौरान पोलिंग स्टेशन पर मनोज कुमार ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ पोलिंट स्टेशन के आगे बैठकर काम को प्रभावित किया था। इसके साथ ही सरकारी अधिकारियों के साथ बदसलूकी की थी। तीन साल से कम की सजा होने पर कोर्ट से जमानत मिलने का प्रावधान है। लिहाजा जब सजा सुनाए जाने के बाद मनोज कुमार ने जमानत की अर्जी लगाई तो कोर्ट ने मनोज कुमार को 10 हजार के जमानती मुचलके पर जमानत दे दी है।