अब आप ने वीके सिंह के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत

नई दिल्ली। हरियाणा के फरीदाबाद जिले में दो दलित बच्चों को जिंदा जला देने वाले मामले को लेकर विवादित बयान देने वाले केंद्रीय मंत्री वीके सिंह की मुश्किलें थमने का नाम ही नहीं ले रही है। इस विवादित बयान को लेकर एक तरफ जहां विपक्षी दलों ने वीके सिंह पर निशाना साधे हुए हैं वहीं दूसरी तरफ राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने भी मोर्चा संभाल रखा है। इसी क्रम में दिल्ली की सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने भी पूर्व थलसेना अध्यक्ष के खिलाफ गड्ढे खोदना शुरू कर दिया है। दरअसल, आप ने केंद्रीय मंत्री वीके सिंह के खिलाफ दलितों का अपमान करने की शिकायत दर्ज कराई है।

मामले की जानकारी देते आप नेता आशुतोष ने बताया कि जनरल वीके सिंह ने दलितों का अपमान किया है। उन्होंने दलितों की तुलना कुत्तों के साथ करके अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति अधिनियम का उल्लंघन किया है। उन्होने शिकायत देने के बाद कहा कि हमारी एसीपी के साथ बहुत संतोषजनक बातचीत हुई है। एसीपी ने कहा है कि वह पहले जांच करेंगे और जरूरत होने पर वीके सिंह से भी पूछताछ की जाएगी। कानून सबके लिए समान है।

आशुतोष ने आशंका जताई कि वीके सिंह केंद्रीय मंत्री हैं. दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार के अधीन है. ऐसे हालात में वह इस मामले को प्रभावित कर सकते हैं। इस बात पर ध्यान दिए जाने की ज़रूरत है। उन्होने बताया कि देर रात वीके सिंह ने अपनी इच्छा से नहीं बल्कि राजनीतिक कारणों से माफी मांगी है। वह इस मामले को प्रभावित कर सकते हैं इसलिए आप अनुसूचित जाति, जनजाति आयोग से भी इस मामले में दखल का अनुरोध करेगी।

मालूम को कि शुक्रवार को ही राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष पीएल पुनिया ने एक संवादाता सम्मेलन का आयोजन कर बताया कि उन्होने वीके सिंह की इस विवादित टिप्पणी को लेकर गाजियाबाद पुलिस और यूपी पुलिस महानिदेशक को एक नोटिस भेजकर पूछा है कि आपने स्वतः इस मामले पर कोई कार्रवाई क्यों नही की।  आपको बता दें कि बीते दिनों वीके सिंह ने फरीदाबाद मामले को लेकर कहा था कि इस मामले को लेकर हरियाणा सरकार व केंद्र सरकार को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है। उन्होने कहा था कि अगर कोई किसी कुत्ते पर पत्थर फेंकता है तो इसके लिए सरकार जिम्मेदार नहीं है।