अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर ने कांग्रेस से किया किनारा, बताई ये वजह

urmila matondkar
अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर ने कांग्रेस से किया किनारा, बताई ये वजह

नई दिल्ली। अभिनेत्री से राजनीति में आई उर्मिला मातोंडर ने मंगलवार को कांग्रेस से इस्तीफा कर दिया। बीते लोकसभा चुनाव में उन्होने उत्तरी मुबई लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था, हालाकि उन्हे जीत नहीं मिली थी। उन्होंने कहा है कि मेरी राजनीतिक और सामाजिक संवेदनाएं मुंबई कांग्रेस में बड़े लक्ष्य पर काम करने की बजाय क्षुद्र अंदरूनी राजनीति से लड़ने के लिए पार्टी में निहित स्वार्थों की अनुमति देने से इनकार करती हैं।

Actress Urmila Matondkar Shies Away From Congress Explains This Reason :

बता दें कि मुंबई नॉर्थ लोकसभा सीट से चुनाव लड़ाने वाली उर्मिला मातोंडकर को भाजपा उम्मीदवार गोपाल शेट्टी ने हराया था। इस सीट पर 18 उम्मीदवार चुनावी मैदान में थे। इस लोकसभा सीट पर चौथे चरण में 29 अप्रैल को वोटिंग हुई थी।

उर्मिला ने कहा मैं राजनीति में ग्लैमर के कारण नहीं आई हूं। मैं विचारधारा के कारण कांग्रेस में आई हूं। आज अभिव्यक्ति की आजादी पर सवाल खड़े हो गए हैं। बेरोजगारी काफी बढ़ गई है। उन्होने कहा कि “ देश को सबको साथ में ले कर चलने वाला नेता चाहिए, ऐसा नेता जो भेदभाव नहीं करता हो। राहुल देश के एकमात्र नेता है जो सबको साथ लेकर चल सकते है।”

नई दिल्ली। अभिनेत्री से राजनीति में आई उर्मिला मातोंडर ने मंगलवार को कांग्रेस से इस्तीफा कर दिया। बीते लोकसभा चुनाव में उन्होने उत्तरी मुबई लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था, हालाकि उन्हे जीत नहीं मिली थी। उन्होंने कहा है कि मेरी राजनीतिक और सामाजिक संवेदनाएं मुंबई कांग्रेस में बड़े लक्ष्य पर काम करने की बजाय क्षुद्र अंदरूनी राजनीति से लड़ने के लिए पार्टी में निहित स्वार्थों की अनुमति देने से इनकार करती हैं। बता दें कि मुंबई नॉर्थ लोकसभा सीट से चुनाव लड़ाने वाली उर्मिला मातोंडकर को भाजपा उम्मीदवार गोपाल शेट्टी ने हराया था। इस सीट पर 18 उम्मीदवार चुनावी मैदान में थे। इस लोकसभा सीट पर चौथे चरण में 29 अप्रैल को वोटिंग हुई थी। उर्मिला ने कहा मैं राजनीति में ग्लैमर के कारण नहीं आई हूं। मैं विचारधारा के कारण कांग्रेस में आई हूं। आज अभिव्यक्ति की आजादी पर सवाल खड़े हो गए हैं। बेरोजगारी काफी बढ़ गई है। उन्होने कहा कि “ देश को सबको साथ में ले कर चलने वाला नेता चाहिए, ऐसा नेता जो भेदभाव नहीं करता हो। राहुल देश के एकमात्र नेता है जो सबको साथ लेकर चल सकते है।”