शादीशुदा महिलाओं की वजह से बहकती हैं लड़कियां, सिर्फ अनमैरिड का हो कॉलेज में एडमिशन

हैदराबाद। तेलंगाना सरकार का मानना है कि शादीशुदा महिलाएं लड़कियों का ध्यान भटकाती हैं जिसकी वजह से अब सिर्फ अविवाहिता महिलाओं का ही कॉलेज में एडमिशन होगा। सरकार ने एक नोटिफ़िकेशन के माध्यम से सोशल वेलफेयर रेजिडेंशियल वुमेन डिग्री कॉलेजों के अंडरग्रेजुएट कोर्स के लिए यह बात कही है। आपको बता दें कि किन कोर्सों के लिए ऐसा नियम बनाया जा रहा है= बीए, बी कॉम, बीएससी।



Admission Only For Unmarried Women Candidates In College :

सरकार का कहना है कि शादीशुदा महिलाएं कॉलेजों में भटकाव का माहौल पैदा करता है। सरकार ने कहा कि महीने में 15 दिन तो इनके पति ही मिलने आते हैं जिसकी वजह से अन्य छात्राओं का ध्यान भटकता है। आपको बता दें कि 23 आवासीय कॉलेजों के करीब 4 हज़ार सीटों पर एडमिशन इस नियम से होता है। ऐसे कॉलेजों में महिला कैंडिडेट को सभी चीजें मुफ्त दी जाते हैं।

हैदराबाद। तेलंगाना सरकार का मानना है कि शादीशुदा महिलाएं लड़कियों का ध्यान भटकाती हैं जिसकी वजह से अब सिर्फ अविवाहिता महिलाओं का ही कॉलेज में एडमिशन होगा। सरकार ने एक नोटिफ़िकेशन के माध्यम से सोशल वेलफेयर रेजिडेंशियल वुमेन डिग्री कॉलेजों के अंडरग्रेजुएट कोर्स के लिए यह बात कही है। आपको बता दें कि किन कोर्सों के लिए ऐसा नियम बनाया जा रहा है= बीए, बी कॉम, बीएससी। सरकार का कहना है कि शादीशुदा महिलाएं कॉलेजों में भटकाव का माहौल पैदा करता है। सरकार ने कहा कि महीने में 15 दिन तो इनके पति ही मिलने आते हैं जिसकी वजह से अन्य छात्राओं का ध्यान भटकता है। आपको बता दें कि 23 आवासीय कॉलेजों के करीब 4 हज़ार सीटों पर एडमिशन इस नियम से होता है। ऐसे कॉलेजों में महिला कैंडिडेट को सभी चीजें मुफ्त दी जाते हैं।