1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. नए सत्र 2022-2023 से यूजी, पीजी पाठ्यक्रमों में CET से होगा दाखिला, NTA को मिला जिम्मा

नए सत्र 2022-2023 से यूजी, पीजी पाठ्यक्रमों में CET से होगा दाखिला, NTA को मिला जिम्मा

केंद्रीय विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने केंद्रीय विश्वविद्यालयों (Central Universities) में स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों दाखिले के लिए कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (CET) शैक्षणिक सत्र 2022-2023 से आयोजित करने का फैसला किया है। बता दें कि राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA ) के इसके माध्यम से आयोजित किया जा सकता है। यूजीसी (UGC)  ने यह भी कहा कि पीएचडी कार्यक्रम (PhD Program) में प्रवेश के लिए जहां भी संभव हो, नेट स्कोर का उपयोग किया जाएगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। केंद्रीय विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने केंद्रीय विश्वविद्यालयों (Central Universities) में स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों दाखिले के लिए कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (CET) शैक्षणिक सत्र 2022-2023 से आयोजित करने का फैसला किया है। देश भर के केंद्रीय सहायता प्राप्त विश्वविद्यालयों में रिर्सच, अंडर-ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट दाखिले को लेकर बड़े फैसले किये हैं। आयोग ने पीएचडी दाखिले लिए राष्ट्रीय परीक्षा परीक्षा यानि नेट परीक्षा उत्तीर्ण जरूरी कर दिया है। बता दें कि राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA ) के इसके माध्यम से आयोजित किया जा सकता है। यूजीसी (UGC)  ने यह भी कहा कि पीएचडी कार्यक्रम (PhD Program) में प्रवेश के लिए जहां भी संभव हो, नेट स्कोर का उपयोग किया जाएगा।

पढ़ें :- नैनीताल हाईकोर्ट का बड़ा फैसला : सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अल्मोड़ा के कुलपति प्रो. भंडारी की नियुक्ति निरस्त

यूजीसी (UGC) ने कुलपतियों को लिखा पत्र

यूजीसी (UGC) ने सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को लिखे पत्र में कहा कि सभी केंद्रीय विश्वविद्यालयों को शैक्षणिक सत्र 2022-2023 से सामान्य प्रवेश परीक्षा के लिए उचित उपाय करने की सलाह दी जाती है। ये परीक्षण न्यूनतम 13 भाषाओं में आयोजित किए जाएंगे जिनमें एनटीए (NTA ) पहले से ही जेईई और नीट परीक्षा आयोजित कर रहा है। एनईपी (NEP ) ने देश के सभी विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए एक केंद्रीय परीक्षा का प्रस्ताव रखा था, जिससे बोर्ड परीक्षाओं पर निर्भरता कम हो गई। सीईटी (CET) से सभी छात्रों के लिए एक समान मंच प्रदान करने की भी उम्मीद है। वही अब शैक्षणिक वर्ष 2022-23 से लागू होने की उम्मीद है, जो अगले वर्ष के छात्रों के लिए है।

एनटीए का महत्व

राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP ), 2020 ने एनटीए (NTA )  के माध्यम से सभी विश्वविद्यालयों के लिए एक सीईटी (CET) का प्रस्ताव दिया था जो उच्च गुणवत्ता वाले सामान्य योग्यता परीक्षण के साथ-साथ विशेष सामान्य विषय परीक्षाओं की पेशकश करने के लिए एक प्रमुख, विशेषज्ञ, स्वायत्त परीक्षण संगठन के रूप में कार्य करेगा।

पढ़ें :- दिल्ली विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (DUET) की परीक्षा तिथियों ऐलान, यहां देखें पूरा शेड्यूल

कुलपतियों के साथ होगी बैठक

इस मामले को देखने और केंद्रीय विश्वविद्यालयों के लिए परीक्षा आयोजित करने के तौर-तरीकों का सुझाव देने के लिए एक समिति का गठन किया गया था। “समिति ने सीईटी आयोजित करने के विवरण में तौर-तरीकों के संबंध में कई दौर की चर्चा की। इसके बाद पैनल की सिफारिशों पर चर्चा के लिए 21 नवंबर को सभी केंद्रीय विश्वविद्यालयों (Central Universities) के कुलपतियों के साथ बैठक की गई। शिक्षा मंत्रालय ने पहले घोषणा की थी कि विश्वविद्यालयों में प्रवेश 2021 शैक्षणिक सत्र से एक सामान्य प्रवेश परीक्षा के आधार पर होगा, लेकिन कोविड-19 द्वारा उत्पन्न चुनौतियों के कारण योजना को आगे नहीं बढ़ाया जा सका।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...