अफगान बलों की गोलीबारी में नौ लोगों की मौत, 45 घायल

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की सेना भारत से लगने वाली नियंत्रण रेखा पर ही सिर्फ गड़बड़ी नहीं करती बल्कि वह पड़ोसी अफगानिस्तान में भी नापाक हरकत की फिराक में रहती है। शुक्रवार की ताजा घटना इसी सीमा विवाद के चलते हुई है। इस विवाद में अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों की गोलीबारी में पाकिस्तान के नौ नागरिक मारे गए हैं जबकि फ्रंटियर कॉर्प्स के दर्जन भर जवानों समेत 45 घायल हुए हैं। सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने बताया कि अफगान बलों की गोलीबारी में मारे गए लोगों में पांच बच्चे और तीन महिलाएं शामिल हैं।




घायल हुए 45 लोगों में फ्रांटियर कॉर्प के चार जवान भी शामिल हैं। गोलीबारी की यह घटना बलूचिस्तान प्रांत के चमन जिले के ‘कली लुकमान’ और ‘कली जहांगीर’ इलाके में हुई, जब जनगणना के लिए गई टीम उन गांवों को भी अपना मानकर वहां के लोगों की गिनती करने लगी जो अफगानिस्तान के हैं। उस समय जनगणना टीम के साथ पाकिस्तानी सेना के जवान भी थे। अफगान सुरक्षा बलों ने जब इसका विरोध किया तो उनका पाकिस्तानी सेना के जवानों से विवाद हो गया। इसी के बाद बचाव दोनों पक्षों में गोलीबारी होने लगी जिसमें अफगानिस्तान के गान जवान भारी पड़े।




गौरतलब है कि पाकिस्तान ने चमन और तोरखाम से लगने वाली अफगानिस्तान सीमा 18 फरवरी से बंद कर दी थी। उधर, पाकिस्तान का आरोप है कि इन रास्तों से आतंकवादी दाखिल होकर उसके इलाकों में वारदात करते हैं और वापस भाग जाते हैं। जबकि अफगानिस्तान भी ऐसे ही आरोप पाकिस्तान पर लगाता है। उसके अनुसार तालिबान आतंकी पाकिस्तान से आकर अफगानिस्तान में हमला करते हैं। महीने भर सीमा बंद रहने के बाद प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने उसे खुलवा दिया जिससे दोनों देशों के बीच संबंध सामान्य बनाए जा सकें।