1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान के माहौल पर होगा बड़े देशों का मंथन, G-7 बैठक पर पूरी दुनिया की नजर

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान के माहौल पर होगा बड़े देशों का मंथन, G-7 बैठक पर पूरी दुनिया की नजर

फगानिस्तान में तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद वहां खौफ का माहौल है।अफगानिस्तान ( Afghanistan) से देश छोड़ कर बाहर जाने के लिए काबुल हवाई अडडे (Kabul Airport) पर कई हजार की भीड़ जमा है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान में तालिबान (Taliban) के कब्जे के बाद वहां खौफ का माहौल है।अफगानिस्तान ( Afghanistan) से देश छोड़ कर बाहर जाने के लिए काबुल हवाई अडडे (Kabul Airport) पर कई हजार की भीड़ जमा है। अफरा तफरी के इस माहौल में वहां हर पल कुछ नया घटित हो रहा है। काबुल हवाई अडडे की हालत चिंताजनक बनी हुई है। नॉर्वे की विदेश मंत्री इने एरिक्सन सोरेइड(Norway’s Foreign Minister Inne Eriksson Soreid) का कहना है कि अफगानिस्तान से लोगों को निकालने की समय सीमा 31 अगस्त से आगे बढ़ाई जानी चाहिए।

पढ़ें :- बेटियां शिक्षित होकर  माता-पिता का नाम  कर रही हैं रोशन : सतीश चन्द्र द्विवेदी
Jai Ho India App Panchang

इन हालातों के बीच अफगानिस्तान में पूर्ण रूप से तालिबान का शासन शुरू हो जाएगा लेकिन, सवाल ये है कि क्या दुनिया के बड़े देश तालिबान सरकार को मान्यता देंगे।  चीन, रूस और पाकिस्तान लगभग अपना अपनी स्थिति साफ कर चुके हैं। भारत अभी इंतजार करेगा। इस बीच G-7 देशों ने अफगान संकट पर आपात बैठक बुलाई है।  G-7 के सभी देशों की होने वाली बैठक में बड़ा फैसला होने की उम्मीद है। ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन ने ये बैठक बुलाई है।

खबरों के अनुसार,जॉनसन ने कहा है कि अफगानी लोगों के हितों की रक्षा के लिए सभी को एकजुट होना होगा। G-7 की बैठक में ये फैसला होगा कि अमेरिका समेत ब्रिटेन, जर्मनी, फ्रांस, इटली और जापान तालिबान सरकार को मान्यता देगा या नहीं। अगर तालिबान को मान्यता देनी है तो उसका वक्त क्या होगा। इससे पहले अफगानिस्तान में तालिबान का राज 1990 की दशक में आया था। उस वक्‍त तीन इस्लामिक देशों ने आगे बढ़कर तालिबान सरकार का समर्थन किया था, जिसमें पाकिस्तान, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात देश शामिल थे। खास बात ये है कि इन तीनों देशों में सुन्नी की जनसंख्या ज्यादा है और अफगानिस्तान भी सुन्नी बहुल देश ही है।

अभी अफगानिस्तान में तैनात सुरक्षा बलों की वापसी को लेकर नई नई खबरें आ रही है। G-7 में सबसे अहम मुद्दा ये भी उठ सकता है कि अमेरिकी फोर्स समेत नाटो की सेना कब अफगान छोड़ेगी। क्योंकि जर्मनी ने अमेरिका से काबुल को छोड़ने की डेडलाइन को बढ़ाने की मांग की है। वहीं, ब्रिटेन और फ्रांस 31 अगस्त की डेडलाइन को बढ़ाने की अपील अमेरिका से पहले ही कर चुके हैं। दो दिन पहले ही तालिबान ने अमेरिका को सीधी चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर अमेरिका और नाटो सेना 31 अगस्त तक अफगानिस्तान से फुल एंड फाइनल पैकअप नहीं करती है तो उसका परिणाम बहुत बुरा होगा।

पढ़ें :- Punjab Breaking: सिद्धू के बाद चन्नी कैबिनेट से रजिया सुल्ताना ने दिया इस्तीफा, कांग्रेस को लगा झटका
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...