1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Afghanistan Crisis : अब अफगान में नहीं बचेगा तालिबान, धूल चटाने को तैयार है यहां की सेना

Afghanistan Crisis : अब अफगान में नहीं बचेगा तालिबान, धूल चटाने को तैयार है यहां की सेना

तालिबान (Taliban) बूंदक और हिंसा के दम पर काबुल ​पर कब्जा (Capture of Kabul) जमा लिया है। मगर तालिबान की अफगानिस्तान (Afghanistan)  में आगे की राह आसान नहीं होने वाली है। या फिर यूं कहें कि अफगान की अभी पिक्चर पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है। तालिबान अभी तक अफगा​निस्तान (Afghanistan)  के केवल 33 राज्यों पर कब्जा जमा पाया है। अभी तक एक राज्य पर उसने कब्जा करने की हिमाकत भी नहीं की है। वहीं राज्य अब उसके लिए नासूर बनता साबित हो रहा है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। तालिबान (Taliban) बूंदक और हिंसा के दम पर काबुल ​पर कब्जा (Capture of Kabul) जमा लिया है। मगर तालिबान की अफगानिस्तान (Afghanistan)  में आगे की राह आसान नहीं होने वाली है। या फिर यूं कहें कि अफगान की अभी पिक्चर पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है। तालिबान अभी तक अफगा​निस्तान (Afghanistan)  के केवल 33 राज्यों पर कब्जा जमा पाया है। अभी तक एक राज्य पर उसने कब्जा करने की हिमाकत भी नहीं की है। अब वही राज्य उसके लिए नासूर बनता साबित हो रहा है।

पढ़ें :- Afghanistan crisis : बॉलीवुड एक्ट्रेस का छलका दर्द, बोलीं- तालिबान राज में अफगान महिलाएं सिर्फ फर्टिलिटी मशीन बन जाएंगी

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बीच उसकी हुकूमत के खिलाफ खेमेबंदी तेज हो गई है। आतंकी संगठन से निपटने की रणनीति तैयार करने के लिए तालिबान विरोधी ताकतें बेहद खतरनाक पंजशीर घाटी में इकट्ठा हुई हैं। इनमें अफगानिस्तान के पूर्व उपराष्ट्रपति अमरूल्ला सालेह (Amrullah Saleh, former Vice President of Afghanistan) और अफगान सरकार के वफादार सिपहसालार जनरल अब्दुल रशीद दोस्तम व अता मोहम्मद नूर के अलावा नॉदर्न अलायंस से जुड़े अहमद मसूद की फौजें शामिल हैं। अहमद मसूद ‘पंजशीर के शेर’ के नाम से मशहूर पूर्व अफगान नेता अहमद शाह मसूद (Afghan leader Ahmed Shah Masood) के बेटे हैं।

तालिबान के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंकने वाली फौजों यानी नॉदर्न अलायंस ने परवान प्रांत के चारिकार इलाके पर दोबारा नियंत्रण हासिल कर लिया है। चूंकि, चारिकार राजधानी काबुल को उत्तरी अफगानिस्तान के सबसे बड़े शहर मजार-ए-शरीफ (Mazar-E-Sharif) से जोड़ता है, लिहाजा उस पर जीत को विद्रोहियों की बड़ी कामयाबी के तौर पर देखा जा रहा है। खबरों के अनुसार, चारिकार पर कब्जे के लिए सालेह के सैनिकों ने पंजशीर की तरफ से हमला किया था। यह अफगानिस्तान का अकेला ऐसा प्रांत है, जिस पर तालिबान का कब्जा नहीं हो सका है। विद्रोहियों ने पंजशीर में नॉदर्न अलायंस उर्फ यूनाइटेड इस्लामिक फ्रंट का झंडा भी फहरा दिया है। अब उनका इरादा पूरी पंजशीर घाटी पर कब्जा जमाने का है।

नॉदर्न अलायंस को 1990 के दशक में अफगानिस्तान में तालिबान की हुकूमत के खिलाफ मोर्चा खोलने के लिए जाना जाता है। शुरुआत में इस अलायंस से सिर्फ तजाख और तालिबान विरोधी मुजाहिद्दीन ही जुड़े थे, पर बाद में अन्य कबीलों के सरदार भी इसमें शामिल हो गए। अफगानिस्तान के पूर्व रक्षा मंत्री अहमद शाह मसूद ने नॉदर्न अलायंस का नेतृत्व किया था।

तालिबान से मुकाबले की रणनीति अफगानिस्तान के पूर्व उपराष्ट्रपति अमरूल्ला सालेह (Amrullah Saleh, former Vice President of Afghanistan) के नेतृत्व में बन रही है। सालेह ने अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी (Afghan President Ashraf Ghani) के मुल्क छोड़कर भागने के बाद खुद को कार्यवाहक राष्ट्रपति घोषित कर दिया है। उन्होंने आखिरी दम तक तालिबान से लड़ने की प्रतिबद्धता जताई है। साथ ही भरोसा दिलाया है कि मुल्क को कभी तालिबान के हवाले नहीं होने देंगे। यही वजह है कि नॉदर्न अलायंस एक बार फिर से तालिबान से लोहा लेने को तैयार है।

पढ़ें :- Afghanistan crisis : तालिबान आतंकियों की फा​यरिंग के बाद काबुल एयरपोर्ट पर भगदड़ , 7 नागरिकों की मौत

पंजशीर घाटी अफगानिस्तान (Afghanistan) के 34 प्रांतों में से एक है। यह राजधानी काबुल के उत्तर में हिंदूकुश क्षेत्र में स्थित एक बेहद दुर्गम घाटी है, जो ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों से घिरी है। अफगान अवाम इसे भूलभुलैया के तौर देखती है, जहां परिंदे का पर मारना भी मुश्किल माना जाता है। यही कारण है कि 1980 के दशक से लेकर अब तक पंजशीर घाटी पर तालिबान का कब्जा नहीं हो सका है।

पंजशीर घाटी (Panjshir Valley) का अर्थ है पांच शेरों की घाटी। मान्यता है कि दसवीं शताब्दी में पांच भाइयों ने गजनी के सुल्तान महमूद के लिए एक बांध बनाया था, जिससे बाढ़ के पानी को नियंत्रित करने में कामयाबी मिली थी। इसके बाद यह इलाका पंजशीर घाटी के नाम से जाना जाने लगा। पंजशीर घाटी (Panjshir Valley) 1980 के दशक में सोवियत संघ तो 1990 के दशक में तालिबान के खिलाफ प्रतिरोध का गढ़ रही थी। इसकी भौगोलिक स्थिति को देखते हुए अमेरिका नीत फौजें भी क्षेत्र में जमीनी कार्रवाई करने की हिम्मत जुटा सकीं। उनका अभियान सिर्फ हवाई हमलों तक सीमित रहा।

पंजशीर घाटी अफगानिस्तान के ‘नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट’ (National Resistance Front) का गढ़ कहलाती है। अमरूल्ला सालेह और अहमद मसूद इसके प्रमुख नेता हैं। सालेह का जन्म पंजशीर घाटी में ही हुआ था। उन्हें सैन्य प्रशिक्षण भी यहीं पर मिला था। वहीं, अहमद मसूद पूर्व अफगान नेता अहमद शाह मसूद के बेटे हैं, जिन्हें ‘पंजशीर के शेर’ के नाम से जाना था।

ताजिक बाहुल क्षेत्र

-01 लाख से अधिक है पंजशीर घाटी की आबादी, इनमें ज्यादातर ताजिक मूल के लोग शामिल।
-150 किलोमीटर के लगभग है राजधानी काबुल से इसकी दूरी, पन्ना खनन का केंद्र कहलाती है।

पढ़ें :- Afghanistan Crisis : अफगानिस्तान की राजधानी में बिगड़े हालात, Kabul Airport पर भारी हवाई फायरिंग

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...