1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Afghanistan’s Army Airstrike : तालिबान के 439 आतंकियों को किया ढेर

Afghanistan’s Army Airstrike : तालिबान के 439 आतंकियों को किया ढेर

अफगानिस्तान की सेना (Afghanistan's army) और तालिबान (Taliban)  के बीच कुंदुज पर कब्जे लेकर भीषण जंग जारी है। वहीं, शेबरघान, ज़रांज, तालुकान शहर में भी भारी गोलाबारी हो रही है। तालिबान अब तक मुल्क के कई अहम इलाकों पर कब्जा कर चुका है। हालांकि, कुछ जगहों पर अफगानी सैनिक उसे कड़ी टक्कर दे रहे हैं। पिछले 24 घंटों में अफगान सुरक्षा बलों ने 439 तालिबान आतंकवादी मार गिराया है और इस कार्रवाई 77 अन्य घायल हो गए है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

काबुल। अफगानिस्तान की सेना (Afghanistan’s army) और तालिबान (Taliban)  के बीच कुंदुज पर कब्जे लेकर भीषण जंग जारी है। वहीं, शेबरघान, ज़रांज, तालुकान शहर में भी भारी गोलाबारी हो रही है। तालिबान अब तक मुल्क के कई अहम इलाकों पर कब्जा कर चुका है। हालांकि, कुछ जगहों पर अफगानी सैनिक उसे कड़ी टक्कर दे रहे हैं। पिछले 24 घंटों में अफगान सुरक्षा बलों ने 439 तालिबान आतंकवादी मार गिराया है और इस कार्रवाई 77 अन्य घायल हो गए है।

पढ़ें :- Afghanistan News: नमाज के बाद मदरसे में हुआ बम धमाका, 15 लोगों की मौत, 27 घायल

पिछले 24 घंटों के दौरान नंगरहार, लगमन, लोगर, पक्तिया, उरुज़गन, ज़ाबुल, घोर, फराह, बल्ख, हेलमंद कपिसा और बगलान प्रांतों में (ANDSF)  के संचालन के परिणामस्वरूप 439  तालिबान आतंकवादी (Taliban terrorists)  मारे गए और 77 अन्य घायल हो गए। अफगान रक्षा मंत्रालय (Afghan Defense Ministry)  ने ट्वीट किया।

अलग से, कंधार प्रांतीय केंद्र के बाहरी इलाके में हवाई हमले में 25 आतंकवादी मारे गए। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि कल कंधार प्रांतीय केंद्र के बाहरी इलाके में एएएफ द्वारा किए गए हवाई हमले में तालिबान के 25 आतंकवादी मारे गए और 13 अन्य घायल हो गए।

देश के उत्तरी हिस्से में बढ़ती हिंसा के बीच अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी (Afghanistan President Ashraf Ghani)  बुधवार को बल्ख प्रांत के मजार-ए-शरीफ शहर (Mazar-e-Sharif city) पहुंचे। यह दौरा तब हो रहा है जब तालिबान ने अफगानिस्तान में कई प्रांतीय राजधानियों पर कब्जा कर लिया है।

अफगान सरकारी बलों और तालिबान के बीच चल रही लड़ाई के बीच, कुंदुज, लश्कर गाह, कंधार और अन्य अफगान शहरों में और उसके आसपास लड़ाई तेज होने से सैकड़ों हजारों नागरिकों को खतरा है। इस बीच, संयुक्त राज्य अमेरिका (United States)  चिंतित है कि तालिबान एक से तीन महीने में काबुल पर कब्जा कर सकता है, जो कि पिछले खुफिया आकलनों की तुलना में बहुत जल्दी है।

पढ़ें :- Jammu-Kashmir News: दहशतगर्दों की फायरिंग में मारा गया लश्कर आतंकी

वाशिंगटन पोस्ट (Washington Post) के अनुसार, देश में स्थिति अब जून से भी बदतर है जब अमेरिकी खुफिया ने भविष्यवाणी की थी कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना के हटने के बाद 6-12 महीनों में काबुल गिर सकता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...