जाने वाले को कौन रोक पाया है: अखिलेश यादव

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के दो एमएलसी बुक्कल नवाब और यशवंत सिंह द्वारा इस्तीफा दिए जाने के बाद पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जिन साथियों को जाना है जा सकते हैं। अाखिर जाने वाले को कौन रोक पाया है।

अखिलेश यादव भले ही अपने पार्टी के बड़े चेहरों के पार्टी छोड़ने पर हल्की प्र​तिक्रिया दे रहे हों लेकिन उन्हें भी मालूम है कि आने वाले समय में पार्टी में बड़े स्तर पर बगावत हो सकती है। पार्टी के कई वर्तमान विधायक और एमएलसी भी बीजेपी को समर्थन देते हुए अपना इस्तीफा दे सकते हैं। जिनमें एक धड़ा शिवपाल समर्थक विधायकों का भी होगा।

{ यह भी पढ़ें:- क्या पाटीदारों को लेकर गुजरात में यूपी वाली गलती दोहराएगी कांग्रेस }

वहीं सूत्रों की माने तो समाजवादी पार्टी में मची भगदड़ अखिलेश यादव को नीचा दिखाने की कोशिश है। इसे समाजवादी पार्टी के भीतर विधानसभा चुनावों से पहले छिड़े अंदरूनी घमासान का पार्ट—2 कह सकते हैं। पिता मुलायम और चाचा शिवपाल को नीचा दिखाकर अखिलेश यादव ने जिस तरह से पार्टी और सरकार को हाईजैैक किया था उसका परिणाम अब सामने आने वाला है। वर्तमान समय में शिवपाल यादव समाजवादी पार्टी में सेंधमारी करने में लगे हैं।

आपको बता दें कि शनिवार को समाजवादी पार्टी छोड़ने वालों में एक एमएलसी बुक्कल नबाव ने जिस तरह का बयान दिया है, उसके बाद यह कहा जा सकता है कि मुलायम सिंह यादव को उनके बेटे अखिलेश ने भले ही साइड लाइन कर दिया हो लेकिन उनके चाहने वाले अभी भी पार्टी में मौजूद हैं। खासतौर पर बुक्कल नबाव जैसे नेता की बात करें तो वह संघर्ष के दिनों से मुलामय के साथी रहे हैं। समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्यों रहे बुक्कल नबाव का पार्टी छोड़ना भले ही अखिलेश के लिए छोटी बात हो लेकिन उन्हें समझ लेना चाहिए कि बिना नींव की इमारत किसी भी समय धराशायी हो सकती है।

{ यह भी पढ़ें:- सपा के निकाय चुनाव प्रचार से 'नेता जी' गायब }

Loading...