मौत के 40 साल बाद लौट आई मां, वजह हैरान कर देगी आपको

कानपुर। यूपी के कानपुर की एक महिला इन दिनों चर्चा का विषय बनी हुई है। इस महिला के बारे में जानकर आप भी हैरान हो जाएंगे। दरअसल, 40 साल पहले मर चुकी ये महिला इतने सालों बाद अपने गाँव लौटी तो उसे देख कर सब हैरान हो गये। हम आपको इसी महिला के बारे में बताने जा रहे हैं कि आखिर मौत होने के बाद भी वह अपने घर कैसे लौटी।

मिली जानकारी के मुताबिक कानपुर के पास मझहावां जिले की इनायतपुर गाँव की एक महिला को साल 1976 में एक जहरीले साँप ने काट लिया था। मृतक महिला के शव का परिजनों ने गंगा नदी में अंतिम संस्कार भी कर दिया था लेकिन ये कहावत तो आपने सुनी ही होगी कि ‘जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय’ आज वो सच होते हो गयी। महिला का नाम विलासा देवी है सांप काटने के बाद महिला का परिवार के सदस्यों ने झाड-फूँक करवाया लेकिन उसका भी कोई फायदा नहीं हुआ और उसकी मौत हो गयी।




विलासा ने बताई आपबीती

  • अपने बच्चे के साथ वो जमीन पर सो रही थी उसी दौरान उनके दाहिने हाथ में साँप ने काट लिया।
  • कुछ देर तक होश में रहने के बाद वो बेहोश हो गयी और उसके बाद उन्हे कुछ भी याद नहीं।
  • होश में आने के बाद वो नदी के किनारे पड़ी थी वहाँ से उठा के दो मछुआरों ने उन्हे मंदिर के पास छोड़ दिया।
  • मंदिर की मालिन ने विलासा को खाना और कपड़े दिये। विलासा तीन साल तक मंदिर में ही रहकर मंदिर की साफ सफाई का ध्यान देती रही।
  • मंदिर की मालिन उन्हे तीन साल बाद तेजपुर गाँव लेकर आई और अपने एक करीबी के यहाँ विलास को सौंप दिया।
  • मालिन के करीबी के घर पर विलासा काम करने लगी और वो लोग उसे दो जून का खाना देने लगे।





ऐसे पहुंची विलास अपने घर

  • कुछ लोगों से विलास के बेटे को पता चला कि उसकी मां जिंदा है तो वो अपने चारों भाई और गाँव के बुजुर्गों के साथ अपनी मां के पते पर गया।
  • गाँव के लोगों को और अपने बेटों को देखकर वो उन लोगों को पहचान गयी लेकिन उसे सही से कुछ याद नहीं आ रहा था।
  • जिसके यहाँ विलासा काम कर रही थी उनसे परिजनों ने उसे ले जाने की बात कही लेकिन वो नहीं माना।
  • जब बेटे राजकुमार ने विलासा के जांघ के दाई हिस्से में लगी एक चोट को देखने के लिए कहा तो चोट के निशान वहीं पर थे।
  • अब मां अपने परिजनों के बीच जाकर काफी खुश है।
  • विलासा देवी की बड़ी बेटी ने बताया कि इसी घर से मां की अर्थी उठी थी उस वक्त मैं बहुत रोयी थी आज मैं उनके वापस आ जाने की वजह से उतनी ही खुश हूँ।
Loading...