पुलिस ने थमाया चालान तो जेई ने काट दी बिजली, अफसरों में मचा हड़कंप

je
पुलिस ने काटा चालान तो जेई ने काट दी बिजली, अफसरों में मचा हड़कंप

मेरठ। नए मोटर व्हीकल एक्ट (New Motor Vehicle Act) के तहत ट्रैफिक कॉन्स्टेबल (Traffic Constable) को बिजली विभाग (Electricity Department) के जूनियर इंजीनियर (Junior Engineer) का चालान (Challan) काटना चौकी और थाने के लिए महंगा पड़ गया। मेरठ में बिजली निगम और पुलिस विभाग आमने सामने आ गए।

After Challan Of Junior Engineer Electricity Cut Of Medical Police Station In Meerut :

दरोगा ने वाहन चेकिंग के दौरान बिजली निगम के अवर अभियंता (जेई) को हेल्मेट और पलूशन सर्टिफिकेट नहीं होने पर नियमों का पाठ पढ़ाया और स्कूटी का चालान कर दिया। जेई ने भी अपने डिपार्टमेंट के नियमों का पालन कर डाला और दरोगा को जवाब देते हुए उसके इलाके की पुलिस चौकी और संबंधित थाने का बिजली कनेक्शन काट दिया। इसके बाद पुलिस पांच घंटे अंधेरे में रही।

क्या है मामला
 
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला मेरठ जिले के तेजगढ़ी चौराहे का है। यहां गुरुवार को पुलिस चेकिंग कर रही थी। चेकिंग के दौरान कांस्टेबल ने जेई से स्कूटी के कागज मांगे तो जेई ने कहा कि वह भी सरकारी कर्मचारी हैं और इमरजेंसी में जा रहे हैं। जेई ने डीएल और आरसी दिखाई। लेकिन हेलमेट नहीं लगा रखा था और न ही स्कूटी का पॉल्यूशन सर्टिफिकेट था।

जिसके बाद एचसीपी ने हेलमेट न लगाने और पॉल्यूशन सर्टिफिकेट न दिखाने संबंधी चालान काट दिया। दोनों का शुल्क भी तीन हजार रुपया बताया गया। इस पर जेई नाराज हो गए। जिसके बाद जेई ने फोन करके लाइनमैन को बुला लिया। पहले तेजगढ़ी चौकी और फिर मेडिकल थाने की बिजली काट दी गई। जेई ने जिस तरह से कॉल करके लाइनमैन को बुलाया उसका वीडियो भी वायरल हो गया।

अफसरों में मचा हड़कंप, कई घंटे काम बाधित

बिजली कटने पर चौकी और थाने के पंखे, एसी और कंप्यूटर बंद हो गए। इंस्पेक्टर मेडिकल ने पता किया तो जेई की स्कूटी का चालान काटने के बदले बिजली काटने की बात सामने आई। इंस्पेक्टर ने पावर कारपोरेशन के उच्चाधिकारियों से संपर्क कर बिजली जुड़वाने की गुहार लगाई। देरशाम चौकी व थाने की बिजली आपूर्ति बहाल कर दी गई। इंस्पेक्टर के अनुसार पिछले महीने का थाने का 27 हजार रुपये बकाया था। चौकी का बिल अलग होगा।  

नियमों के उल्लंघन के बावजूद नशे में थे जेई

चालान काटने वाले हेड कांस्टेबल राजेश कुमार का कहना है कि जेई सोमप्रकाश गर्ग शराब के नशे में थे। ऊंची आवाज में बोलने के साथ उन्होंने धमकी भी दी। प्रदूषण जांच और हेलमेट न होने पर ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन में चालान काटा गया था।

मैं अपनी जगह सही था, इसलिए बिजली काटी

जेई सोमप्रकाश का कहना है कि सिर में एलर्जी के चलते उन्होंने हेलमेट नहीं पहना था। नशे की बात गलत है। तेजगढ़ी चौकी पर मीटर नहीं है, चोरी से बिजली चला रहे हैं। मेडिकल थाने पर 1.67 लाख रुपये बिजली बिल बकाया है। थाने के भुगतान की बात कहने पर वहां की बिजली जुड़वा दी गई है मगर चौकी की बिजली नहीं जोड़ी है।

मेरठ। नए मोटर व्हीकल एक्ट (New Motor Vehicle Act) के तहत ट्रैफिक कॉन्स्टेबल (Traffic Constable) को बिजली विभाग (Electricity Department) के जूनियर इंजीनियर (Junior Engineer) का चालान (Challan) काटना चौकी और थाने के लिए महंगा पड़ गया। मेरठ में बिजली निगम और पुलिस विभाग आमने सामने आ गए। दरोगा ने वाहन चेकिंग के दौरान बिजली निगम के अवर अभियंता (जेई) को हेल्मेट और पलूशन सर्टिफिकेट नहीं होने पर नियमों का पाठ पढ़ाया और स्कूटी का चालान कर दिया। जेई ने भी अपने डिपार्टमेंट के नियमों का पालन कर डाला और दरोगा को जवाब देते हुए उसके इलाके की पुलिस चौकी और संबंधित थाने का बिजली कनेक्शन काट दिया। इसके बाद पुलिस पांच घंटे अंधेरे में रही। क्या है मामला   मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मामला मेरठ जिले के तेजगढ़ी चौराहे का है। यहां गुरुवार को पुलिस चेकिंग कर रही थी। चेकिंग के दौरान कांस्टेबल ने जेई से स्कूटी के कागज मांगे तो जेई ने कहा कि वह भी सरकारी कर्मचारी हैं और इमरजेंसी में जा रहे हैं। जेई ने डीएल और आरसी दिखाई। लेकिन हेलमेट नहीं लगा रखा था और न ही स्कूटी का पॉल्यूशन सर्टिफिकेट था। जिसके बाद एचसीपी ने हेलमेट न लगाने और पॉल्यूशन सर्टिफिकेट न दिखाने संबंधी चालान काट दिया। दोनों का शुल्क भी तीन हजार रुपया बताया गया। इस पर जेई नाराज हो गए। जिसके बाद जेई ने फोन करके लाइनमैन को बुला लिया। पहले तेजगढ़ी चौकी और फिर मेडिकल थाने की बिजली काट दी गई। जेई ने जिस तरह से कॉल करके लाइनमैन को बुलाया उसका वीडियो भी वायरल हो गया। अफसरों में मचा हड़कंप, कई घंटे काम बाधित बिजली कटने पर चौकी और थाने के पंखे, एसी और कंप्यूटर बंद हो गए। इंस्पेक्टर मेडिकल ने पता किया तो जेई की स्कूटी का चालान काटने के बदले बिजली काटने की बात सामने आई। इंस्पेक्टर ने पावर कारपोरेशन के उच्चाधिकारियों से संपर्क कर बिजली जुड़वाने की गुहार लगाई। देरशाम चौकी व थाने की बिजली आपूर्ति बहाल कर दी गई। इंस्पेक्टर के अनुसार पिछले महीने का थाने का 27 हजार रुपये बकाया था। चौकी का बिल अलग होगा।   नियमों के उल्लंघन के बावजूद नशे में थे जेई चालान काटने वाले हेड कांस्टेबल राजेश कुमार का कहना है कि जेई सोमप्रकाश गर्ग शराब के नशे में थे। ऊंची आवाज में बोलने के साथ उन्होंने धमकी भी दी। प्रदूषण जांच और हेलमेट न होने पर ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन में चालान काटा गया था। मैं अपनी जगह सही था, इसलिए बिजली काटी जेई सोमप्रकाश का कहना है कि सिर में एलर्जी के चलते उन्होंने हेलमेट नहीं पहना था। नशे की बात गलत है। तेजगढ़ी चौकी पर मीटर नहीं है, चोरी से बिजली चला रहे हैं। मेडिकल थाने पर 1.67 लाख रुपये बिजली बिल बकाया है। थाने के भुगतान की बात कहने पर वहां की बिजली जुड़वा दी गई है मगर चौकी की बिजली नहीं जोड़ी है।