वीएचपी बोली- धर्मसभा के बाद बनेगा राम मंदिर

वीएचपी बोली- धर्मसभा के बाद बनेगा राम मंदिर
वीएचपी बोली- धर्मसभा के बाद बनेगा राम मंदिर

आयोद्धा। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने शुक्रवार को कहा कि रविवार को अयोध्या में निर्धारित ‘धर्मसभा’ राम मंदिर के निर्माण के लिए बाधाओं को दूर करने का ‘आखिरी प्रयास’ है। मंदिर के शुरुआती निर्माण के लिए रणनीति पर चर्चा करने के लिए बैठक बुलाई गई है। एक बयान में वीएचपी क्षेत्रीय संगठनात्मक सचिव भोलेंद ने कहा, ‘अब और कोई सभाएं नहीं होंगी और अब अगला पड़ाव मंदिर के निर्माण की शुरुआत होगी।’

After Dharmasabha Ram Mandir Make In Ayodhya Says Vhp :

उन्होंने कहा, ‘अब मंदिर निर्माण के लिए सभाएं, प्रदर्शन और धरना इत्यादि नहीं होंगे और न ही विरोधियों को समझाया जाएगा…सीधे मंदिर निर्माण होगा।’ वीएचपी नेता ने कहा कि मंदिर निर्माण के विरोध कर रहे लोगों को तथ्यों का अहसास कराने के लिए आखिरी बार प्रयास किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि सभी प्रयास असफल होंगे तो युद्ध एकमात्र रास्ता बचेगा। हिंदू संगठन ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि वे केवल राजनीति कर रहे हैं। वीएचपी नेता ने कहा कि जनेऊ (पवित्र धागा) पहनकर, कैलाश मानसरोवर की यात्रा कर और कुछ देवताओं के नामों का जाप कर राहुल हिंदुओं का समर्थक नहीं बन सकते।

अयोध्या की विवादित जमीन पर राम मंदिर निर्माण के लिए जहां विश्व हिंदू परिषद (विहिप) धर्मसभा का ऐलान पहले ही कर चुकी है, वहीं अब रामलला के मंदिर के लिए उस धरती पर अश्वमेध महायज्ञ का किए जाने की घोषणा कर दी गई है। विश्व वेदांत संस्थान 1 से छह दिसंबर तक अश्वमेध महायज्ञ करने जा रहा है।

संस्थान के संस्थापक आनंदजी महाराज ने बताया कि राम मंदिर निर्माण का आंदोलन दिन पर दिन प्रबल होता जा रहा है। अब इसे जनआंदोलन बनने से कोई रोक नहीं सकता। अयोध्या में राम मंदिर तो बनकर रहेगा।

आयोद्धा। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने शुक्रवार को कहा कि रविवार को अयोध्या में निर्धारित 'धर्मसभा' राम मंदिर के निर्माण के लिए बाधाओं को दूर करने का 'आखिरी प्रयास' है। मंदिर के शुरुआती निर्माण के लिए रणनीति पर चर्चा करने के लिए बैठक बुलाई गई है। एक बयान में वीएचपी क्षेत्रीय संगठनात्मक सचिव भोलेंद ने कहा, 'अब और कोई सभाएं नहीं होंगी और अब अगला पड़ाव मंदिर के निर्माण की शुरुआत होगी।' उन्होंने कहा, ‘अब मंदिर निर्माण के लिए सभाएं, प्रदर्शन और धरना इत्यादि नहीं होंगे और न ही विरोधियों को समझाया जाएगा...सीधे मंदिर निर्माण होगा।’ वीएचपी नेता ने कहा कि मंदिर निर्माण के विरोध कर रहे लोगों को तथ्यों का अहसास कराने के लिए आखिरी बार प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सभी प्रयास असफल होंगे तो युद्ध एकमात्र रास्ता बचेगा। हिंदू संगठन ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि वे केवल राजनीति कर रहे हैं। वीएचपी नेता ने कहा कि जनेऊ (पवित्र धागा) पहनकर, कैलाश मानसरोवर की यात्रा कर और कुछ देवताओं के नामों का जाप कर राहुल हिंदुओं का समर्थक नहीं बन सकते। अयोध्या की विवादित जमीन पर राम मंदिर निर्माण के लिए जहां विश्व हिंदू परिषद (विहिप) धर्मसभा का ऐलान पहले ही कर चुकी है, वहीं अब रामलला के मंदिर के लिए उस धरती पर अश्वमेध महायज्ञ का किए जाने की घोषणा कर दी गई है। विश्व वेदांत संस्थान 1 से छह दिसंबर तक अश्वमेध महायज्ञ करने जा रहा है। संस्थान के संस्थापक आनंदजी महाराज ने बताया कि राम मंदिर निर्माण का आंदोलन दिन पर दिन प्रबल होता जा रहा है। अब इसे जनआंदोलन बनने से कोई रोक नहीं सकता। अयोध्या में राम मंदिर तो बनकर रहेगा।