गिरिराज सिंह के हमले के बाद BJP-JDU में शुरू हो गयी जुबानी जंग-बिहार जलभराव

BJP-JDU
गिरिराज सिंह के हमले के बाद BJP-JDU में शुरू हो गयी जुबानी जंग-बिहार जलभराव

पटना। एकतरफ बिहार के लोग जलभराव की समस्या से जूझ रहे हैं वहीं राजनीतिक पार्टियां एक दूसरे को नीचा दिखाने में लगी हैं। बिहार में एनडीए गठबन्धन की सरकार है, ऐसे में जेडीयू पार्टी से सीएम नितीश कुमार को एनडीए की मदद की जरूरत है तो वहीं बीजेपी के नेता भी उनकी सरकार पर तंंज कसते हुए दिखाई दे रहे हैं। हाल ही में भाजपा नेता व केन्द्र सरकार के मंत्री गिरिराज सिंह ने नितीश सरकार पर तंज कसते हुए कहा था ‘जब ताली सरदार को, तो गाली भी सरदार को’।

After Giriraj Singhs Attack Jubani War And Bihar Waterlog Started In Bjp Jdu :

 

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह द्वारा नीतीश कुमार सरकार पर किये गये इस हमले के बाद बिहार में बीजेपी और जेडीयू के बीच जुबानी जंग छिड़ गयी है। जेडीयू की तरफ से गिरिराज के बयान पर पलटवार करते हुए प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि कोई महादेव का नाम लेने से सिर्फ नेता नही बन जाता, वह नीतीश कुमार की पैरों की धूल के बराबर भी नहीं हैं। वहीं भाजपा सांसद राम कृपाल यादव ने कहा नौकरशाही बिहार सरकार के नियंत्रण से बाहर हो गई है। दोनो तरफ से छिड़ी जुबानी जंग की वजह से पार्टियों के बीच भी माहौल बिगड़ता हुआ नजर आ रहा है।

वहीं अब जेडीयू के नेताओं की तरफ से पटना में आयी समस्या को लेकर भाजपा को ही जिम्मेदार बताया जाने लगा है। जेडीयू के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने भी बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि जबसे जेडीयू का भाजपा से गठबन्धन हुआ तबसे शहर विकास का विभाग भाजपा के पास है, पटना के मेयर भाजपा से ही हैं साथ ही पटना से लोकसभा की दोनो सीटो पर सांसद भी भाजपा के ही हैं। वहीं कुछ नेताओं ने ये तक कह दिया कि गिरिराज सिंह विपक्षी पार्टी के तेजस्वी यादव से ज्यादा बिहार सरकार को नुकसान पंहुचा रहे हैं।


केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एकबार फिर टवीट कर सुर्खियां बटोरने की कोशिश की हैं। इस बार उन्होने पटना के लोगों से माफी मांगी है। उन्होने आज एक टवीट किया कि ‘आज से दुर्गापूजा का मेला शुरू हो गया है ..मैं बिहार NDA की तरफ से उन सनातनियों से क्षमा मांगता हूं जहाँ पर बाढ़ के कारण पूजा ,पंडाल एवं मेला का आयोजन नही हो पाया है। बताया जाता है कि गिरिराज सिंह के मन में भी बिहार का मुख्यमंत्री बनने की चाह है इसलिए वो जानबूझकर ऐसे बयान देते रहते हैं।

पटना। एकतरफ बिहार के लोग जलभराव की समस्या से जूझ रहे हैं वहीं राजनीतिक पार्टियां एक दूसरे को नीचा दिखाने में लगी हैं। बिहार में एनडीए गठबन्धन की सरकार है, ऐसे में जेडीयू पार्टी से सीएम नितीश कुमार को एनडीए की मदद की जरूरत है तो वहीं बीजेपी के नेता भी उनकी सरकार पर तंंज कसते हुए दिखाई दे रहे हैं। हाल ही में भाजपा नेता व केन्द्र सरकार के मंत्री गिरिराज सिंह ने नितीश सरकार पर तंज कसते हुए कहा था 'जब ताली सरदार को, तो गाली भी सरदार को'।   केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह द्वारा नीतीश कुमार सरकार पर किये गये इस हमले के बाद बिहार में बीजेपी और जेडीयू के बीच जुबानी जंग छिड़ गयी है। जेडीयू की तरफ से गिरिराज के बयान पर पलटवार करते हुए प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि कोई महादेव का नाम लेने से सिर्फ नेता नही बन जाता, वह नीतीश कुमार की पैरों की धूल के बराबर भी नहीं हैं। वहीं भाजपा सांसद राम कृपाल यादव ने कहा नौकरशाही बिहार सरकार के नियंत्रण से बाहर हो गई है। दोनो तरफ से छिड़ी जुबानी जंग की वजह से पार्टियों के बीच भी माहौल बिगड़ता हुआ नजर आ रहा है। वहीं अब जेडीयू के नेताओं की तरफ से पटना में आयी समस्या को लेकर भाजपा को ही जिम्मेदार बताया जाने लगा है। जेडीयू के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने भी बीजेपी पर हमला करते हुए कहा कि जबसे जेडीयू का भाजपा से गठबन्धन हुआ तबसे शहर विकास का विभाग भाजपा के पास है, पटना के मेयर भाजपा से ही हैं साथ ही पटना से लोकसभा की दोनो सीटो पर सांसद भी भाजपा के ही हैं। वहीं कुछ नेताओं ने ये तक कह दिया कि गिरिराज सिंह विपक्षी पार्टी के तेजस्वी यादव से ज्यादा बिहार सरकार को नुकसान पंहुचा रहे हैं। केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एकबार फिर टवीट कर सुर्खियां बटोरने की कोशिश की हैं। इस बार उन्होने पटना के लोगों से माफी मांगी है। उन्होने आज एक टवीट किया कि 'आज से दुर्गापूजा का मेला शुरू हो गया है ..मैं बिहार NDA की तरफ से उन सनातनियों से क्षमा मांगता हूं जहाँ पर बाढ़ के कारण पूजा ,पंडाल एवं मेला का आयोजन नही हो पाया है। बताया जाता है कि गिरिराज सिंह के मन में भी बिहार का मुख्यमंत्री बनने की चाह है इसलिए वो जानबूझकर ऐसे बयान देते रहते हैं।