1. हिन्दी समाचार
  2. चमकी बुखार से मरने वाला का आंकड़ा 110 पहुंचा, 36 नये मरीज सामने आये

चमकी बुखार से मरने वाला का आंकड़ा 110 पहुंचा, 36 नये मरीज सामने आये

After Muzaffarpur Kids Suffering From Aes Increasing In Motihari

By पर्दाफाश समूह 
Updated Date

पटना। बिहार में एक तरफ भीषण गर्मी के कहर से लोगों की लगातार मौत हो रही है तो दूसरी ओर चमकी बुखार के कारण बच्चों की मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। बिहार में जहां चमकी बुखार से 110 बच्चों की मौत हो चुकी है वहीं मुजफ्फरपुर के बाद अब एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोमद्ध से कई और भी जिले प्रभावित हो रहे हैं।

पढ़ें :- हरियाणा में योग को दिया जा रहा है बढ़ावा : राज्य मंत्री सरदार संदीप सिंह

अब पूर्वी चम्पारण जिले में भी चमकी बुखार से पीडि़त बच्चों की संख्या तेजी से बढ़ती ही जा रही है। जिले के अब तक एईएस के 36 बच्चे नए मामले सामने आ चुके हैं। इन सभी बच्चों का इलाज मुजफ्फरपुर और पूर्वी चम्पारण के विभिन्न निजी अस्पतालों में किया जा रहा है।

इन पीडि़त बच्चों में सबसे अधिक 16 बच्चे चकिया प्रखंड के गांवों के है जिनमें पांच की मौत हो चुकी है। जिले में 18 नए मरीजों की शिनाख्त हो सकी है जबकि मोतिहारी के सदर अस्पताल में तीन बच्चों का इलाज किया जा रहा है जिसमें एक की एईएस से पीडि़त होने की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने किया है। इधर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी का कहना है कि महामारी के रुप ले चुके एआईएस से बचाव के लिए मोतिहारी सदर अस्पताल में समुचित व्यवस्था की गई है।

आपको बता दें कि चमकी बुखार से पीडि़त होने वाले अधिकांश बच्चे कुपोषण के शिकार हैं जो महादलित परिवार के हैं। रविवार को खुद स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रविवार को मुजफ्फरपुर का दौरा किया था। दौरा करने के बाद हर्षवर्धन ने कहा बीमारी की पहचान करने के लिए शोध होना चाहिए जिसकी अभी भी पहचान नहीं है और इसके लिए मुजफ्फरपुर में शोध की सुविधा विकसित की जानी चाहिए।

पढ़ें :- योग को पाठ्यक्रम में शामिल करेगी हरियाणा सरकार, सीएम मनोहर लाल और बाबा रामदेव के बीच हुई बैठक

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...