CRPF ने कहा- संकट में फंसे हर कश्मीरी के लिए हैं मददगार, जारी किए टोल फ्री नंबर

indian army
CRPF ने कहा- संकट में फंसे हर कश्मीरी के लिए हैं मददगार, जारी किए टोल फ्री नंबर

नई दिल्ली। पुलवामा आतंकवादी हमले (Pulwama Terror Attack)के बाद जम्मू कश्मीर से बाहर रह रहे कश्मीरियों (Kashmiri) को कथित तौर पर दी जा रही धमकियों की खबरों के मद्देनजर श्रीनगर स्थित सीआरपीएफ हेल्पलाइन (CRPF Helpline)ने शनिवार को कहा कि वे किसी भी तरह के उत्पीड़न के मामले में उनसे संपर्क करें।

After Pulwama Attack Kashmiris Are Facing Threat And To Tackle This Crpf Issued Helpline :

सीआरपीएफ मददगार ने ट्विटर पर लिखा, ‘कश्मीरी छात्रों और आम नागरिक जो राज्य से बाहर रह रहे हैं वह ट्विटर पर @CRPFmadadgaar के जरिए हमसे संपर्क कर सकते हैं। यदि उन्हें किसी भी तरह की कठिनाई/उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है तो वह हमसे 24×7 टोल फ्री नंबर 14411 पर फोन कर सकते हैं या मोबाइल नंबर 7082814411 पर एसएमएस करके सहायता मांग सकते हैं।’

आपको बता दें कि 16 जून 2017 को सीआरपीएफ की तरफ से मददगार हेल्पलाइन की शुरुआत की गई थी। इस हेल्पलाइन के माध्यम से शुरुआती दौर में जम्मू-कश्मीर में रहने वाले लोगों की मदद शुरू की गई थी। चाहे पानी की समस्या हो या फिर बिजली की, घरेलू हिंसा की समस्या हो या फिर मेडिकल संबंधी कोई दिक्कत, दहेज प्रताड़ना हो या किसी भी तरह की प्राकृतिक आपदा, ‘मददगार’ के जरिए हर तरह के मामलों में सीआरपीएफ जवान मदद करने पहुंच जाते हैं।

गौरतलब है कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद देश के अलग-अलग हिस्से में रह रहे कश्मीरी छात्रों-नागरिकों को आम लोगों के रोष का सामना करना पड़ रहा है। शनिवार को ऐसा ही एक मामला अंबाला के मुलाना गांव से सामने आया था, जहां महर्षि मारकंडेश्वर यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों को 24 घंटे में गांव छोड़ने की चेतावनी दी गई थी। गांव के सरपंच का आरोप है कि इन छात्रों के तार आतंकी संगठनों से जुड़े हुए हैं। इसके अलावा भी कई जगह से ऐसे मामले सामने आए थे, जहां कश्मीरियों को डराया-धमकाया जा रहा है।

नई दिल्ली। पुलवामा आतंकवादी हमले (Pulwama Terror Attack)के बाद जम्मू कश्मीर से बाहर रह रहे कश्मीरियों (Kashmiri) को कथित तौर पर दी जा रही धमकियों की खबरों के मद्देनजर श्रीनगर स्थित सीआरपीएफ हेल्पलाइन (CRPF Helpline)ने शनिवार को कहा कि वे किसी भी तरह के उत्पीड़न के मामले में उनसे संपर्क करें। सीआरपीएफ मददगार ने ट्विटर पर लिखा, 'कश्मीरी छात्रों और आम नागरिक जो राज्य से बाहर रह रहे हैं वह ट्विटर पर @CRPFmadadgaar के जरिए हमसे संपर्क कर सकते हैं। यदि उन्हें किसी भी तरह की कठिनाई/उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है तो वह हमसे 24x7 टोल फ्री नंबर 14411 पर फोन कर सकते हैं या मोबाइल नंबर 7082814411 पर एसएमएस करके सहायता मांग सकते हैं।' आपको बता दें कि 16 जून 2017 को सीआरपीएफ की तरफ से मददगार हेल्पलाइन की शुरुआत की गई थी। इस हेल्पलाइन के माध्यम से शुरुआती दौर में जम्मू-कश्मीर में रहने वाले लोगों की मदद शुरू की गई थी। चाहे पानी की समस्या हो या फिर बिजली की, घरेलू हिंसा की समस्या हो या फिर मेडिकल संबंधी कोई दिक्कत, दहेज प्रताड़ना हो या किसी भी तरह की प्राकृतिक आपदा, 'मददगार' के जरिए हर तरह के मामलों में सीआरपीएफ जवान मदद करने पहुंच जाते हैं। गौरतलब है कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद देश के अलग-अलग हिस्से में रह रहे कश्मीरी छात्रों-नागरिकों को आम लोगों के रोष का सामना करना पड़ रहा है। शनिवार को ऐसा ही एक मामला अंबाला के मुलाना गांव से सामने आया था, जहां महर्षि मारकंडेश्वर यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों को 24 घंटे में गांव छोड़ने की चेतावनी दी गई थी। गांव के सरपंच का आरोप है कि इन छात्रों के तार आतंकी संगठनों से जुड़े हुए हैं। इसके अलावा भी कई जगह से ऐसे मामले सामने आए थे, जहां कश्मीरियों को डराया-धमकाया जा रहा है।