अलगाववादी नेता यासीन मलिक की गिरफ्तारी के बाद श्रीनगर में भड़की हिंसा

नई दिल्ली | जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के अध्यक्ष मुहम्मद यासीन मलिक को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया गया। जेकेएलएफ सूत्रों ने कहा कि पुलिस का दल श्रीनगर के अबी गुजर इलाके में पहुंचा और मलिक व जेकेएलएफ के एक अन्य नेता बशीर अहमद को गिरफ्तार कर लिया।

दोनों को श्रीनगर सेंट्रल जेल में रखा गया है। मलिक की गिरफ्तारी मुस्लिम महीने मुहर्रम के 10वें दिन (एक अक्टूबर) निकाले जाने वाले मुख्य मुहर्रम जुलूस से दो दिन पहले की गई है।

{ यह भी पढ़ें:- PM मोदी के 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' के पोस्टर में अलगाववादी नेता की तस्वीर }

प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षा बलों पर किया पथराव

अलगाववादी नेता की गिरफ्तारी के तुरंत बाद गुस्साए प्रदर्शनकारी सुरक्षा बल के जवानों से भिड़ गए और उन पर पथराव किया। पुलिस और अर्धसैनिक बल के जवानों ने पथराव कर रहे प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। हालांकि, प्रदर्शनकारी जमे रहे और इलाके में संघर्ष जारी रहा। मलिक ने अपनी गिरफ्तारी से पहले कहा, ‘ग्राम रक्षा समितियां राज्य प्रायोजित आतंकवाद के औजार हैं, जिसने आतंकवाद फैलाया है। इसे जल्द से जल्द भंग कर दिया जाना चाहिए।

{ यह भी पढ़ें:- अलगाववादी नेता आगा हसन के घर NIA ने की छापेमारी, टेरर फंडिंग का शक }