HBE Ads
  1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. ताउते के बाद चक्रवात ‘यास’ का खतरा बढ़ा, पीएम मोदी ने बुलाई हाईलेवल मीटिंग

ताउते के बाद चक्रवात ‘यास’ का खतरा बढ़ा, पीएम मोदी ने बुलाई हाईलेवल मीटिंग

ताउते के बाद भारत के पूर्वी तट से सटे राज्य में 'यास' चक्रवात का खतरा बढ़ता जा रहा है। इसको देखते हुए अभी से अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसके साथ ही पीएम मोदी भी इस चक्रवात को लेकर हाईलेवट मीटिंग करने जा रहे हैं। इस चक्रवात से 26 मई को उत्तरी ओडिशा और सुंदरवन (पश्चिम बंगाल में) के बीच एक लैंडफॉल बनाने की उम्मीद है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। ताउते के बाद भारत के पूर्वी तट से सटे राज्य में ‘यास’ चक्रवात का खतरा बढ़ता जा रहा है। इसको देखते हुए अभी से अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसके साथ ही पीएम मोदी भी इस चक्रवात को लेकर हाईलेवट मीटिंग करने जा रहे हैं। इस चक्रवात से 26 मई को उत्तरी ओडिशा और सुंदरवन (पश्चिम बंगाल में) के बीच एक लैंडफॉल बनाने की उम्मीद है।

पढ़ें :- Budget 2024: बजट में राज्यों के साथ पूरी तरह से किया गया भेदभाव...जानिए इंडिया गठबंधन की बैठक में क्या बनी रणनीति?

यह चक्रवात, तूफान ताउते के कुछ दिनों बाद आ रहा है, जिसने पश्चिमी तट पर कहर बरपाया। इसके चलते दर्जनों लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, यास चक्रवात को लेकर पीएम मोदी आज तैयारियों की समीक्षा करेंगे। इस हाई लेवल बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, बिजली, नागरिक उड्डयन, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के प्रतिनिधी, वरिष्ठ सरकारी अधिकारी, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालयों के सचिव और अन्य मंत्री भी शामिल होंगे।

इधर, मौसम विभाग के अलर्ट को देखते हुए भारतीय सेना ने ओडिशा और पश्चिम बंगाल में इंजीनियर और टास्क फोर्स की तैनाती की है। वहीं नौसेना तूफान के संभावित खतरे से निपटने के लिए बाढ़ राहत एवं बचाव की 8 टीमों को ओडिशा और पश्चिम बंगाल में भेजा है। इसके अलावा इंडियन नेवी ने गोताखोरों की 4 टीमों को भी इन राज्यों में भेजा है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...