1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. दो सप्ताह की लगातार गिरावट के बाद, भारत का विदेशी मुद्रा भंडार बढ़कर हुआ 634.96 बिलियन अमेरिकी डॉलर

दो सप्ताह की लगातार गिरावट के बाद, भारत का विदेशी मुद्रा भंडार बढ़कर हुआ 634.96 बिलियन अमेरिकी डॉलर

आरबीआई के साप्ताहिक सांख्यिकीय अनुपूरक के अनुसार, 14 जनवरी, 2022 को समाप्त सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार की सभी श्रेणियों में वृद्धि हुई।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के आंकड़ों से पता चलता है कि 14 जनवरी, 2022 को समाप्त सप्ताह के लिए भारत का विदेशी मुद्रा (विदेशी मुद्रा) भंडार $ 2.229 बिलियन बढ़कर 634.965 बिलियन डॉलर हो गया। यह लगातार दो गिरावटों के बाद है कि भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।

पढ़ें :- भारतीय रिजर्व बैंक के हस्तक्षेप के बाद अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में मामूली सुधार देखने को मिला

7 जनवरी, 2022 को समाप्त हुए पिछले सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में 878 मिलियन डॉलर की गिरावट आई थी। इससे एक सप्ताह पहले, 31 दिसंबर, 2021 को समाप्त सप्ताह के लिए विदेशी मुद्रा भंडार में 1.4 बिलियन डॉलर से अधिक की गिरावट आई थी।

आरबीआई के साप्ताहिक सांख्यिकीय अनुपूरक के अनुसार, 14 जनवरी, 2022 को समाप्त सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार की सभी श्रेणियों में वृद्धि हुई।

विदेशी मुद्रा भंडार में विदेशी मुद्रा संपत्ति, सोना, एसडीआर और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में आरक्षित स्थिति शामिल है।

विदेशी मुद्रा संपत्ति 1.345 अरब डॉलर बढ़कर 570.737 अरब डॉलर हो गई। अमेरिकी डॉलर के संदर्भ में व्यक्त, विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों में यूरो, यूके के पाउंड स्टर्लिंग, जापानी येन जैसे विदेशी मुद्रा भंडार में गैर-डॉलर मुद्राओं की सराहना या मूल्यह्रास का प्रभाव शामिल है।

पढ़ें :- RTI से खुलासा : बैकों के डूबे 62 हजार करोड़ , नीरव,मेहुल समेत 50 विलफुल डिफाल्टर का RBI ने किया Write Off

7 जनवरी को समाप्त सप्ताह के दौरान विदेशी मुद्रा संपत्ति 497 मिलियन डॉलर घटकर 569.392 बिलियन डॉलर हो गई थी। समीक्षाधीन सप्ताह के लिए भारत के सोने के भंडार का मूल्य 726 मिलियन डॉलर बढ़कर 39.770 बिलियन डॉलर हो गया।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ भारत का विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 123 मिलियन डॉलर बढ़कर 19.220 बिलियन डॉलर हो गया।

14 जनवरी, 2022 को समाप्त सप्ताह के दौरान आईएमएफ के साथ भारत की आरक्षित स्थिति 36 मिलियन डॉलर बढ़कर 5.238 बिलियन डॉलर हो गई।

भारत के विदेशी मुद्रा भंडार का लगभग एक तिहाई अमेरिकी सरकारी प्रतिभूतियों में निवेश के रूप में है। हालांकि ये एक सुरक्षित संपत्ति हैं, लेकिन ये ज्यादा रिटर्न नहीं देती हैं।

विशेषज्ञों का दावा है कि बढ़े हुए विदेशी मुद्रा भंडार के कारण, भारत, COVID-19 के कारण आर्थिक व्यवधानों के बावजूद, वैश्विक आर्थिक झटकों से गद्दीदार था। बजट 2021 की तरह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, बजट 2022 से पहले, मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की नीतिगत हाइलाइट्स में से एक के रूप में बढ़े हुए विदेशी मुद्रा भंडार को बढ़ाने की संभावना है।

पढ़ें :- मई माह में 12 दिन बंद रहेगा बैंक, देखें छुट्टियों की पूरी लिस्ट

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...