अग्नि-5 के सफल परीक्षण के बाद अब अग्नि-6 की तैयारी

नई दिल्ली| अग्नि 5 मिसाइल के सफल परीक्षण के बाद अब भारत अग्नि 6 की तैयारियों में जुट गया है| अग्नि 6 मिसाइल की सबसे बड़ी खासियत ये है कि एक साथ कई हथियारों को अपने साथ ले जा सकता है जिससे दुश्मन के इलाके में भारी तबाही मचाई जा सकती है| इतना ही इन्ही यह दुश्मन के डिफेंस सिस्टम यानी एमआईआरवी को मात देने के लिए तकनीकी रूप से सक्षम होगा|




एमआईआरवी का मतलब ये होता है कि कोई मिसाइल एक साथ कितने परमाणु हथियारों को अपने साथ ले जाने की क्षमता रखता है| अग्नि 5 के सफल परीक्षण के साथ ही भारत दुनिया की बड़ी मिसाइल शक्तियों में शामिल हो चुका है| अग्नि-6 के पूरी तरह से वजूद में आने के बाद यह ताकत और बढ़ जाएगी|

अग्नि-5 मिसाइल का सफल परीक्षण, चीन-पाक की बढ़ी चिंता

भारत ने स्वदेश में विकसित सतह से सतह तक मार करने में सक्षम और परमाणु क्षमता से लैस बैलिस्टिक मिसाइल ‘अग्नि-5’ का ओडिशा तट से दूर व्हीलर द्वीप से सोमवार को सफल परीक्षण किया| अग्नि-5 के सफल परीक्षण ने भारत के पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान की चिंता बढ़ा है| परमाणु क्षमता वाली अग्नि-5 मिसाइल 5,000 किलोमीटर की दूरी तक वार कर सकती है| यह मिसाइल चीन के किसी भी हिस्से को निशाना बनाने में सक्षम है|

इस मिसाइल के साथ ही भारत 5,000 से 5,5000 किलोमीटर की दूरी तक वार करने वाले बलिस्टिक मिसाइलों से लैस देशों के ग्रुप में शामिल हो जाएगा| अभी यह क्षमता अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस और ब्रिटेन जैसे देशों के ही पास है| यह मिसाइल 17 मीटर लंबी, 2 मीटर चौड़ी है और इसका वजन 50 टन है|



बता दें कि इस मिसाइल को एक लॉन्चर ट्रक पर रखे कनस्तर से भी छोड़ा जा सकता है| जिससे यह मिसाइल और भी खतरनाक बन जाती है क्योंकि इससे सेना को 50 टन वजनी मिसाइल को कहीं से भी छोड़ने की सहूलियत मिलती है|

Loading...