कुत्तों पर सरकारी गोली खर्च कर रही आगरा पुलिस

लखनऊ। यूपी की पुलिस की दबंगई भी लाजवाब है। कब किस महिला या कमजोर आदमी को यूपी पुलिस का झटका देखना पड़ जाए कहा नहीं जा सकता। ऐसा ही एक सीसीटीवी वीडियो में सामने आया है। जानी मानी वेबसाइट भड़ास द्वारा यूट्यूब पर एक वीडियो अपलोड किया गया है​ जिसमें दिख रहा है कैसे एक घर पर पूरे दल बल के साथ रात को दबिश देने पहुंचे दरोगा जी कुत्ते पर फायरिंग कर रहे हैं। नौकरी सरकारी है, पिस्टल सरकारी है और गोली भी शायद इसीलिए दरोगा जी कुत्ते पर फायर कर आस पास के लोगों को अपने रौब का अहसास करा रहे है।




इस वीडियो को जो कि किसी घर के बाहर और भीतर लगे सीसीटीवी ​फुटेज से तैयार किया गया है, के साथ दिए विवरण के मुताबिक, वीडियो 25 सितंबर 2016 को यूट्यूब पर अपलोड किया गया है। वीडियो को अपलोड करते समय लिखे विवरण के मुताबिक सीसी टीवी कैमरे में नजर आ रही पुलिस एक घर पर दबिश देने पहुंची है। घर के बाहर कई कुत्ते पुलिस वालों पर भौंकना शुरू कर देते हैं। रात का समय होने के कारण कुत्ते दरवाजे के पास से नहीं हटते, जिस पर हाथ में डंडा लिए एक पुलिसवाला कुत्ते को डंड़े से मार कर भगाता है। इस बीच घर से दो महिलाएं भी बाहर आ जातीं हैं। कुछ देर बातचीत के दौरान एक दरोगा पीछे से भौंक रहे कुत्ते के पास जाकर उसे भगाने की कोशिश करता है। कुत्ते की आदत के आगे दरोगा के प्रयास खाली जाते हैं और उसके बाद दरोगा अपनी सर्विस पिस्टल से कुत्ते पर फायर कर देते हैं। हालांकि फायर कुत्ते को लगता नहीं है।

वीडियों में शामिल घर के अंदर के फुटेज में पुलिस टीम घर के अंदर भी घुसती और निकलती नजर आ रही है। घर में रहने वाले परिवार का आरोप है कि घर में घुसने के बाद पुलिस ने परिवार की एक महिला जोकि गर्भवती है, के साथ भी कुछ अभद्रता की। उसके कमरे के दरवाजे को जबर्दस्ती खुलवाया।




यह वीडियो भले ही पुलिस प्रक्रिया में संवेदनहीनता के पहलू को दिखाता है जाकि किसी भी अपराधी व्यक्ति के साथ पुलिस को धारण करना ही पड़ता है। वहीं दूसरी ओर दबिश के दौरान फायरिंग करना यूपी पुलिस की मित्र छवि पर सवालिया निशान भी खड़ा करता है क्योंकि कहीं न कहीं रात के समय किसी आवासीय इलाके में अनायास ही फायर करना एक गलत संदेश देता है। पुलिस के इस कृत्य से इलाके के अन्य लोगों के भीतर पुलिस की जो छवि बनेगी वह गलत ही होगी।
वीडियो सभार भड़ास4 मीडिया