1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. किसान संसद चलाना भी जानता है और अनदेखी करने वालों को गांव में सबक सिखाना भी : राकेश टिकैत

किसान संसद चलाना भी जानता है और अनदेखी करने वालों को गांव में सबक सिखाना भी : राकेश टिकैत

नए कृषि कानूनों (Agricultural Law) को लेकर किसानों का आंदोलन (farmers' movement) जारी है। किसान बीते करीब आठ महीनों से कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर अड़े हुए हैं। बीते कई महीनों से सरकार और किसानों के बीच बातचीत भी नहीं हुई है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। farmers’ movement in india नए कृषि कानूनों (Agricultural Law) को लेकर किसानों का आंदोलन (farmers’ movement) जारी है। किसान बीते करीब आठ महीनों से कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर अड़े हुए हैं। बीते कई महीनों से सरकार और किसानों के बीच बातचीत भी नहीं हुई है।

पढ़ें :- BJP झूठ बोलने में 'Gold Medal' जीत सकती है : राकेश टिकैत

लिहाजा, किसानों का आंदोलन जारी है। वहीं, इस बीच किसान आंदोलन (farmers’ movement) का नेतृत्व कर रहे राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने सरकार को चेताया है। उन्होंने कहा कि किसान संसद (Parliament) चलाना जानता है और गांवों में सबक भी सिखाना जानता है। इसके साथ ही उन्होंने क​हा कि गूंगी बहरी सरकार को जगाने का काम भी किसानों ने किया है।

पढ़ें :- 'दो कौड़ी' वाले बयान पर राकेश टिकैत बोले- "उनका बेटा एक साल से जेल में है इसलिए गुस्से में है, हम किसी की जुबान बंद नहीं कर सकते

वहीं, जंतर मंतर पर किसान अपनी संसद चला रहे हैं। बता दें कि, मॉनसून सत्र की शुरूआत होने से पहले किसानों ने जंतर मंतर पर अपनी ताकत दिखाने का ऐलान किया था। इसी क्रम में किसान कृषि कानूनों (Agricultural Law) की वापसी की मांग को लेकर जंतर मंतर पहुंच रहे हैं।

रविवार को किसानों के नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने ट्वीट कर कहा है कि, किसान संसद (Parliament) से किसानों ने गूंगी -बहरी सरकार को जगाने का काम किया है। किसान संसद चलाना भी जानता है और अनदेखी करने वालों को गांव में सबक सिखाना भी जानता है। भुलावे में कोई न रहे।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...