1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. वापस होंगे नहीं होंगे कृषि कानून, नरेंद्र मोदी ने किया स्पष्ट

वापस होंगे नहीं होंगे कृषि कानून, नरेंद्र मोदी ने किया स्पष्ट

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

Agricultural Law Will Not Be Back Narendra Modi Clarified

नई दिल्ली: नए कृषि कानूनों को लेकर किसानों का आंदोलन बीते ढाई महीने से जारी है. इस आंदोलन में अब तक 100 से ज्यादा किसान अपनी जान गंवा चुका है. आंदोलन की आड़ में दिल्ली में हिंसा तक हो गई, लेकिन किसान अपनी मांग पर आज भी अड़े हुए हैं. उन्हें नए कृषि कानूनों की वापसी से कम कुछ भी मंजूर नहीं है.

पढ़ें :- ‘टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट’ से तोड़ेंगे कोरोना संक्रमण की चेन : सीएम योगी

वहीं, सरकार के साथ कई दौर की बातचीत के बाद सहमति नहीं बन पाई तो अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साफ संकेत दे दिया है कि नए कानून वापस नहीं होंगे. राज्यसभा में अपने संबोधन के दौरान पीएम ने कानून में संशोधन की ही बातों पर सिर्फ जोर दिया. ऐसे में अब गेंद किसानों के पाले में है. क्या वो आंदोलन जारी रखेंगे या बैकफुट पर आएंगे, इन सवालों के जवाब का अब इंतजार है. वहीं, विपक्ष की भूमिका कैसी होगी, ये भी देखना होगा.

कृषि कानूनों को लेकर मचे घमासान के बीच सोमवार को राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों से आंदोलन खत्म करने की अपील की. प्रधानमंत्री ने कहा कि MSP था, MSP है और MSP रहेगा, किसानों को आंदोलन खत्म करना चाहिए. सदन में सिर्फ आंदोलन की बात हुई है, कानून में सुधारों को लेकर चर्चा नहीं की गई.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि लाल बहादुर शास्त्री जी को जब कृषि सुधारों को करना पड़ा, तब भी उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ा था. लेकिन वो पीछे नहीं हटे थे. तब लेफ्ट वाले कांग्रेस को अमेरिका का एजेंट बताते थे, आज मुझे ही वो गाली दे रहे हैं. पीएम ने कहा कि कोई भी कानून आया हो, कुछ वक्त के बाद सुधार होते ही हैं. बुजुर्ग आंदोलन में बैठे हैं, उन्हें घर जाना चाहिए. आंदोलन खत्म करें और चर्चा आगे चलती रहे.

गालियों को मेरे खाते में जाने दो…

पढ़ें :- अनंतनाग मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने दो आतंकवादियों को किया ढेर : आईजीपी विजय कुमार

पीएम मोदी ने अपील करते हुए कहा कि आंदोलनकारियों को समझाते हुए हमें आगे बढ़ना होगा, गालियों को मेरे खाते में जाने दो, लेकिन सुधारों को होने दो. किसानों के साथ लगातार बात की जा रही है. पीएम मोदी ने किसानों को भरोसा दिलाया कि MSP है, था और रहेगा. मंडियों को मजबूत किया जा रहा है. जिन 80 करोड़ लोगों को सस्तों में राशन दिया जाता है, वो भी जारी रहेगा.

कृषि कानूनों पर विपक्ष को घेरा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार समेत कई कांग्रेस के नेताओं ने भी कृषि सुधारों की बात की है. शरद पवार ने अभी भी सुधारों का विरोध नहीं किया, हमें जो अच्छा लगा वो किया आगे भी सुधार करते रहेंगे. पीएम मोदी ने कहा कि आज विपक्ष यू-टर्न कर रहा है, क्योंकि राजनीति हावी है.

पीएम मनमोहन ने जो कहा वो मैं कर रहा हूं…

पीएम मोदी ने सदन में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का कथन पढ़ा, ‘हमारी सोच है कि बड़ी मार्केट को लाने में जो अड़चनें हैं, हमारी कोशिश है कि किसान को उपज बेचने की इजाजत हो’. पीएम मोदी ने कहा कि जो मनमोहन सिंह ने कहा वो मोदी को करना पड़ रहा है, आप गर्व कीजिए. पीएम मोदी ने कहा कि दूध का काम करने वाले, पशुपालन वाले, सफल का काम करने वालों के पास खुली छूट है. लेकिन किसानों को ये छूट नहीं है.

पढ़ें :- कुलदीप सेंगर की पत्नी संगीता का भाजपा ने काटा टिकट, ये रही वजह

इस तरह पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कानूनों में सुधार की ही बातों पर जोर दिया, लेकिन कानून वापसी के कहीं से कोई भी संकेत नहीं दिए. ऐसे में किसानों की कानून वापसी की मांग और सरकार का बैकफुट पर ना आना, आगे क्या रूप लेगा ये देखना बाकी है.

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...