जब बिना इंजन 10KM दौड़ी ट्रेन, यात्रियों की थम गयी सांसें

puri express
अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस
नई दिल्ली। अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस के यात्री शनिवार को उस समय बाल-बाल बच गए जब ट्रेन के डब्बे बगैर इंजन के ही कुछ किलोमीटर तक चलते रहे। यह घटना ओडिशा के टिटलागढ़ की है। रेलवे कर्मचारियों ने इंजन से अलग हुए ट्रेन के हिस्से को पटरी पर पत्थरों रखकर रोका। इस्ट कोस्ट रेलवे (ईसीओआर) के अधिकारियों ने इंजन के दो चालकों और रेलगाड़ी की मरम्मत करने वाले तीन कर्मचारियों को काम में लापरहवाही के लिए निलंबित कर दिया है। बताया गया…

नई दिल्ली। अहमदाबाद-पुरी एक्सप्रेस के यात्री शनिवार को उस समय बाल-बाल बच गए जब ट्रेन के डब्बे बगैर इंजन के ही कुछ किलोमीटर तक चलते रहे। यह घटना ओडिशा के टिटलागढ़ की है। रेलवे कर्मचारियों ने इंजन से अलग हुए ट्रेन के हिस्से को पटरी पर पत्थरों रखकर रोका। इस्ट कोस्ट रेलवे (ईसीओआर) के अधिकारियों ने इंजन के दो चालकों और रेलगाड़ी की मरम्मत करने वाले तीन कर्मचारियों को काम में लापरहवाही के लिए निलंबित कर दिया है।

बताया गया है कि ट्रेन से इंजन अलग करने पर स्किड ब्रेक नहीं लगाए जाने से ट्रेन के डब्बे कुछ किलोमीटर तक बगैर इंजन के ही चलते रहे। ईसीओआर ने एक बयान में कहा, “अहमदाबाद-पुरीएक्सप्रेस के डब्बों के बगैर इंजन के केसिंगा की ओर चलने की घटना सामने आई है। संबंधित कर्मचारियों द्वारा स्किड-ब्रेक का उपयोग नहीं करने की वजह से ऐसा हुआ।” यात्री सुरक्षित बताए जा रहे हैं।

{ यह भी पढ़ें:- ऐसे में रेलवे आपका पूरा पैसा करेगा रिफ़ंड, जरूर जाने ये नियम }

रेलवे ने कहा, “जब इंजन को ट्रेन के दूसरे छोर में जोड़ने के लिए डिब्बों से अलग किया जाता है तो उनके पहियों में स्किड ब्रेक यानी कोच को रोककर रखने के लिए प्रयुक्त ब्रेक लगाई जाती है। इस मामले में लगता है कि या तो स्किड ब्रेक लगाई ही नहीं गई या ठीक से नहीं लग पाई। विस्तृत जांच से ही इसका पता चल पाएगा।”

ईसीओर के प्रबंध निदेशक उमेश सिंह ने कहा है कि मामले में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

{ यह भी पढ़ें:- अब आम आदमी भी कर सकेंगे मंत्री अफसर वाले इस रेल कोच में सफर }

Loading...