1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. इटली में फंसे 263 भारतीय छात्रों को लेकर दिल्ली पहुंचा एयर इंडिया का विमान, आईटीबीपी कैंप में रखे जाएंगे

इटली में फंसे 263 भारतीय छात्रों को लेकर दिल्ली पहुंचा एयर इंडिया का विमान, आईटीबीपी कैंप में रखे जाएंगे

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच इटली की राजधानी रोम में फंसे भारतीय छात्रों को लेकर एयर इंडिया विशेष विमान वापस दिल्ली आ गया है। शनिवार को 12 क्रू मेंबर्स के साथ एक बोइंग 777 को रवाना किया गया था। एयर इंडिया के अधिकारी ने बताया कि इस फ्लाइट से 263 छात्रों को वापस लाया गया है। आपको बता दें कि केंद्र को दूसरी फ्लाइट तैनात करने की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि इटली में 500 से अधिक फंसे हुए लोगों के मौजूद होने का अनुमान है।

उन्होंने बताया कि क्रू मेंबर्स को सुरक्षा के लिए एक विशेष सूट दिए गए हैं। अब तक दूसरे देशों से 1600 भारतीयों की वतन वापसी हो चुकी है। स्वास्थ्य सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि करीब 1600 भारतीयों और दूसरे देशों के नागरिकों को मिलाकर करीब 1700 लोगों को हम अपने क्वारंटाइन सेंटर में सेवाएं दे चुके हैं। बता दें कि इस खतरनाक संक्रमण से दुनिया भर में अब तक 12000 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है, जबकि ढाई लाख लोग इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं।

बताते चलें कि इटली में एक दिन में रिकॉर्ड 793 लोगों की मौत हुई है। इस खतरनाक संक्रमण से दुनिया भर में अब तक 12000 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है, जबकि ढाई लाख लोग इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। इटली में शुक्रवार से 1420 लोगों की मौत हो चुकी है और कोरोना वायरस को रोकने के तमाम सरकारी उपायों के बीच संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है। इससे देश में इस घातक विषाणु से मृतकों की कुल संख्या 4825 हो गई है जो पूरी दुनिया में इस बीमारी से हुई मौत का 38.3 फीसदी है। कोविड-19 संक्रमण की संख्या 53578 हो गई है जो एक और रिकॉर्ड है। मिलान पास उत्तर लोमबार्डी में मृतकों की संख्या तीन हजार से अधिक हो गई है। यह इटली में मरने वालों की कुल संख्या का करीब दो तिहाई है।

इटली में अब तक वायरस की वजह से तीन हजार से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। बेहद कम समय में काफी लोगों की मौत हो जाने की वजह से लाशों को बिना किसी संस्कार या समारोह के दफनाया जा रहा है। लोम्बार्डी क्षेत्र में पड़ने वाले इस प्रांत में 12 लाख लोग रहते हैं और यहां केवल इसी इलाके से ही दो हजार से अधिक संक्रमित लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। इसके अलावा इस क्षेत्र में 4,300 से अधिक लोग कोरोना पॉजिटिव हैं।

यहां स्थिति इस कदर बेकाबू हो गई है कि लाशों को दफनाने में भी सेना की मदद लेनी पड़ रही है। यहां बुधवार की रात सेना को कब्रिस्तान में विभिन्न स्थानों से 65 ताबूतों को स्थानांतरित करने के लिए काम पर लगाना पड़ा। क्षेत्र में अंतिम संस्कार की जिम्मेदारी संभालने वाली सीएफबी एक मार्च से लगभग 600 लोगों को दफना चुकी है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...