दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण से एयर प्यूरीफायर की भारी मांग

नई दिल्ली: दिल्ली-एनसीआर में दिवाली के बाद जोरदार प्रदूषण छाया हुआ है। ऐसे में एयर प्यूरीफायर की मांग में जोरदार इजाफा हुआ है। यूरेका फोर्ब्स, ब्लूएयर, केंट आरओ तथा पैनासोनिक जैसे विनिर्माता एयर प्यूरीफायर की बिक्री में चार गुना वृद्धि की उम्मीद कर रही हैं।दिवाली के बाद एयर प्यूरीफायर की बिक्री में अचानक से जोरदार बढ़ोतरी हुई है। शापोरजी पल्लोनजी समूह की कंपनी यूरेका फोर्ब्स का एयर प्यूरीफायर बाजार में 40 प्रतिशत का हिस्सा है। कंपनी ने कहा कि उसकी बिक्री में जोरदार इजाफा हुआ है।




यूरेका फोर्ब्स के मुख्य कार्यकारी मार्जिन आर श्राफ ने कहा, ‘‘बिक्री में जोरदार इजाफा हुआ है। हालांकि, यह काफी प्रतिस्पर्धी श्रेणी है इसलिए बिक्री आंकड़ों का खुलासा नहीं किया जा सकता।’इसी तरह की राय जताते हुए केंट आरओ सिस्टम्स के चेयरमैन महेश गुप्ता ने कहा कि उपभोक्ता बढ़ते वायु प्रदूषण से प्रभावित हुए हैं। बिक्री बढ़ी है क्योंकि लोग इससे राहत चाहते हैं। गुप्ता ने कहा कि दिवाली के बाद बिक्री में जोरदार बढ़ोतरी हुई है। पिछले दो दिन के दौरान हमने करीब 100 इकाइयां बेची हैं। हमें उम्मीद है कि निकट भविष्य में मांग में और इजाफा होगा। उन्होंने कहा कि एयर प्यूरीफायर अस्थमा और सांस की अन्य बीमारियों से प्रभावित लोगों को काफी राहत प्रदान करते हैं। गुप्ता ने कहा कि यदि प्रदूषण कायम रहता है तो बिक्री और बढ़ सकती है। फिलहाल लोगों की प्राथमिकता इससे राहत पाने की है।




इसी तरह की राय जताते हुए पैनासोनिक इंडिया के प्रबंध निदेशक (वॉटर प्यूरीफायर और एयर प्यूरीफायर) सैयद मोनिस अली अल्वी ने कहा कि दिवाली के बाद से दिल्ली में लगातार धुंध बनी हुई है। वायु प्रदूषण के प्रति बढ़ती जागरूकता से एयर प्यूरीफायर की बिक्री में इजाफा देखने को मिलेगा। उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह से बिक्री बढ़नी शुरू हुई है। अल्वी ने कहा, ‘‘हम दिवाली के बाद एयर प्यूरीफायर की बिक्री में 400 प्रतिशत बढ़ोतरी की उम्मीद कर रहे हैं। कुल बिक्री में से 60 प्रतिशत बी2बी से और 40 प्रतिशत परिवारों से आएगी।

ब्लू एयर के भारत में कारोबार प्रमुख विजय कन्नन ने कहा कि एयर प्यूरीफायर के लिए दीवाली के बाद का समय पासा पलटने वाला है। दिवाली के बाद हमारी बिक्री में 100 प्रतिशत से अधिक का इजाफा हुआ है।फिलहाल एयर प्यूरीफायर का बाजार सिर्फ 150 से 200 करोड़ रपए का है। टेकसाई रिसर्च की रिपोर्ट के अनुसार वित्त वर्ष 2015-16 में एयर प्यूरीफायर का बाजार 40,000 इकाई का रहा।

Loading...