अजीत डोभाल ने अफसरों के साथ की बैठक, आतंकवाद के खिलाफ बड़े ऑपरेशन की तैयारी

ajeet doval
अजीत डोभाल ने अफसरों के साथ की बैठक, आतंकवाद के खिलाफ बड़े ऑपरेशन की तैयारी

नई दिल्ली। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल ने अफसरों के साथ बैठक की। जम्मू—कश्मीर पर मंडरा रहे आतंकी साये को लेकर यह बैठक की गई। सूत्रों की माने तो सुरक्षा एजेंसियों के पास आतंकी हमले का इनपुट है, जिसके कारण वहां की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है। सूत्रों की माने तो, मिले इनपुट में यह बताया गया है कि आतंकी संगठन जम्मू—कश्मीर में बड़े हमले की तैयारी में है। यही वजह है कि कश्मीर घाटी में अर्धसैनिक बलों की 100 कंपनियां तैनात की गई हैं। शुक्रवार गृह मंत्रालय ने बताया था कि, घाटी में

Ajit Doval Meeting With The Officers Preparing For Bigger Operations Against Terrorism :

सीआरपीएफ की 50, बीएसएफ की 10, एसएसबी की 30, आईटीबीपी की 10 कंपनियां तैनात की जाएंगी। गौरतलब है कि, 15 अगस्त और उसके आस—पास के समय आतंकवादी घटना को अंजाम देने की फिराक में रहते हैं। कई बार आतंकियों ने घाटी के रास्ते देश के विभिन्न हिस्सों में आतंकी हमले को अंजाम देने का प्लान तैयार किया, जिसे सुरक्षा एजेंसियों ने नाकाम कर दिया।

घाटी में आतंकवादी गतिविधियों को देखते हुए नरेंद्र मोदी सरकार कोई जोखिम मोल लेना नहीं चाहती। वहीं, कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ जारी है, जिसके खिलाफ सुरक्षा बल मु​स्तैदी से डटे हुए हैं और कड़ी कार्रवाई कर रहे हैं। शनिवार को शोपियां में सुरक्षा बलों ने दो आतंकियों को ढेर कर दिया। मारे गए दो आतंकवादियों में से एक जैश-ए-मुहम्मद (जेईएम) का पाकिस्तानी आतंकवादी मुन्ना लाहौरी था। वह आईईडी बनाने में माहिर था।

नई दिल्ली। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल ने अफसरों के साथ बैठक की। जम्मू—कश्मीर पर मंडरा रहे आतंकी साये को लेकर यह बैठक की गई। सूत्रों की माने तो सुरक्षा एजेंसियों के पास आतंकी हमले का इनपुट है, जिसके कारण वहां की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है। सूत्रों की माने तो, मिले इनपुट में यह बताया गया है कि आतंकी संगठन जम्मू—कश्मीर में बड़े हमले की तैयारी में है। यही वजह है कि कश्मीर घाटी में अर्धसैनिक बलों की 100 कंपनियां तैनात की गई हैं। शुक्रवार गृह मंत्रालय ने बताया था कि, घाटी में सीआरपीएफ की 50, बीएसएफ की 10, एसएसबी की 30, आईटीबीपी की 10 कंपनियां तैनात की जाएंगी। गौरतलब है कि, 15 अगस्त और उसके आस—पास के समय आतंकवादी घटना को अंजाम देने की फिराक में रहते हैं। कई बार आतंकियों ने घाटी के रास्ते देश के विभिन्न हिस्सों में आतंकी हमले को अंजाम देने का प्लान तैयार किया, जिसे सुरक्षा एजेंसियों ने नाकाम कर दिया। घाटी में आतंकवादी गतिविधियों को देखते हुए नरेंद्र मोदी सरकार कोई जोखिम मोल लेना नहीं चाहती। वहीं, कश्मीर में आतंकियों की घुसपैठ जारी है, जिसके खिलाफ सुरक्षा बल मु​स्तैदी से डटे हुए हैं और कड़ी कार्रवाई कर रहे हैं। शनिवार को शोपियां में सुरक्षा बलों ने दो आतंकियों को ढेर कर दिया। मारे गए दो आतंकवादियों में से एक जैश-ए-मुहम्मद (जेईएम) का पाकिस्तानी आतंकवादी मुन्ना लाहौरी था। वह आईईडी बनाने में माहिर था।