1. हिन्दी समाचार
  2. काम आया अजीत डोभाल का ऑपरेशन, म्यांमार ने भारत को सौंपे 22 पूर्वोत्तर विद्रोही

काम आया अजीत डोभाल का ऑपरेशन, म्यांमार ने भारत को सौंपे 22 पूर्वोत्तर विद्रोही

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

Ajit Dovals Operation Comes In Handy Myanmar Handed Over 22 Northeast Rebels To India

नई दिल्ली: म्यांमार की सेना ने शुक्रवार दोपहर को 22 पूर्वोत्तर विद्रोहियों के एक समूह को भारत सरकार को सौंप दिया। हिंदुस्तान टाइम्स को मामले से जुड़े लोगों ने बताया कि मणिपुर और असम के विद्रोहियों को विशेष विमान से वापस लाया गया। एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया कि म्यांमार सरकार के लिए यह एक बड़ा कदम है और दोनों देशों के बीच गहराते संबंधों का एक प्रतिबिंब है। यह विमान असम के गुवाहाटी जाने से पहले मणिपुर की राजधानी इंफाल में रुकेगा। अधिकारी ने कहा कि विद्रोहियों को दोनों राज्यों में स्थानीय पुलिस को सौंप दिया जाएगा।

पढ़ें :- पिता की मृत्यु के बाद जब विराट ने गले लगा कर कहा की मै हूँ तुम्हारे साथ, भावुक होकर रो पड़े मोहम्मद सिराज

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल द्वारा संचालित इस ऑपरेशन को लेकर एक वरिष्ठ राष्ट्रीय सुरक्षा योजनाकार ने कहा कि यह पहली बार है कि म्यांमार सरकार ने पूर्वोत्तर विद्रोही समूहों के नेताओं को सौंपने के भारत के अनुरोध पर काम किया है। इसे दोनों देशों के बीच बढ़ती हुई खुफिया और रक्षा सहयोग के परिणामस्वरूप ये संभव हो रहा है।

इन 22 विद्रोहियों में से 12 मणिपुर में चार विद्रोही समूहों से जुड़े हुए हैं: ये लोग UNLF, PREPAK (Pro), KYKL और PLA से हैं। बाकी 10 एनडीएफबी (एस) और केएलओ जैसे असम समूहों से जुड़े हैं। म्यांमार के साथ भारत की 1,600 किलोमीटर की सीमा विद्रोही समूहों के शिविरों का अड्डा बनी हुई है। लेकिन म्यांमार की सेना द्वारा ऑपरेशन करने पर सहमति बनने के बाद पिछले कुछ वर्षों से विद्रोही समूहों पर दबाव बन रहा है। पिछले साल, म्यांमार की सेना ने भारतीय सुरक्षा एजेंसियों द्वारा प्रदान की गई पिन-पॉइंटेड इंटेलिजेंस के आधार पर फरवरी और मार्च 2019 के माध्यम से निरंतर अभियान चलाया।

म्यांमार की सेना ने पहले चरण में अरुणाचल प्रदेश में विजयनगर के मुख्य भाग में देश के उत्तर में तागा में बहु-समूह के आतंकी शिविरों पर हमला किया, और दूसरे में अरकान, नीलगिरि और हकियत शिविरों को नष्ट कर दिया। इन अभियानों में 22 विद्रोहियों को म्यांमार सेना ने सागिंग क्षेत्र में पकड़ा था। एक राष्ट्रीय सुरक्षा अधिकारी ने कहा कि उग्रवादियों को सौंपने का म्यांमार का फैसला उन संगठनों के लिए एक बड़ा संदेश है, जिनसे निपटने के लिए नई दिल्ली के साथ नईपीडॉ का तालमेल है। भारतीय अधिकारियों को उम्मीद है कि म्यांमार की कार्रवाई उन समूहों के लिए एक बाधा होगी, जिन्होंने सीमा पार घने जंगलों की कल्पना की थी, जिससे वे कार्रवाई से बच सकते थे।

पढ़ें :- चिंता का विषय: इस करोना काल में भी सोना चांदी के भाव छू रहे है आसमान

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X