जबलपुर आर्डिनेंस डिपो से चोरी हुईं एके-47 पहुंची नक्सलियों के पास

ak- 47 nexals
जबलपुर आर्डिनेंस डिपो से चोरी हुईं एके-47 पहुंची नक्सलियों के पास

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के जबलपुर स्थित सेंट्रल ऑर्डिनेंस डिपो से चोरी की गई 70 एके-47 राइफल की खेप का एक हिस्सा झारखंड में भी खपाया गया था। खबरो के मुताबिक मुंगेर के अवैध आर्म्स डीलर ने ये खेप झारखण्ड तक पहुंचाई है। मुंगेर पुलिस के मुताबिक हथियार की डील में सफेदपोश, ट्रांसपोर्टर और नक्सलियों की संलिप्तता रही है। पुलिस के मुताबिक धनबाद के कोयला कारोबारी व नेताओं ने एके-47 की खरीद की है।

Ak 47 Stolen By Ordinence Factory Of Jabalpur Reaced Nexals :

मुंगेर के डीआईजी जितेंद्र मिश्रा के मुताबिक आर्म्स खपाने के इस सनसनीखेज मामले की पुलिस जांच कर रही है। उन्होने बताया कि पुलिस की एक टीम जांच के लिए जमशेदपुर गई थी। शक के दायरे में आए वहां के एक शख्स को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

पुलिस जांच में सामने आया कि वर्कशॉप के सीनियर इंचार्ज सुरेश ठाकुर, रिटायर्ड आर्मीमैन और सीओडी के आर्मोरर पुरूषोतम रजक एके- 47 की चोरी करते थे। सुरेश ठाकुर ने कुछ कर्मियों की मदद से दीवार में छेद किया था। यह छेद एक पेड़ की आड़ में था, ऐसे में उस पर किसी की नजर नहीं जाती थी। साल 2012 से सुरेश ठाकुर ने खराब एके 47 को गायब करना शुरू कर दिया। खराब हथियार को निकालकर वह पुरूषोतम रजक को देता था। इसके बाद पुरूषोतम उसे ठीक कर मुंगेर के अवैध हथियार डीलरों के पास भेजता था।

मुंगेर पुलिस की टीम ने आर्म्स डीलरों के पास से एक डायरी बरामद की है। जिसमें एके-47 की बिक्री का पूरा ब्यौरा रखा गया है। जानकारी के मुताबिक, एके 47 की खरीद करने वाले सफेदपोशों के बारे में इस डायरी में लिखा है।

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के जबलपुर स्थित सेंट्रल ऑर्डिनेंस डिपो से चोरी की गई 70 एके-47 राइफल की खेप का एक हिस्सा झारखंड में भी खपाया गया था। खबरो के मुताबिक मुंगेर के अवैध आर्म्स डीलर ने ये खेप झारखण्ड तक पहुंचाई है। मुंगेर पुलिस के मुताबिक हथियार की डील में सफेदपोश, ट्रांसपोर्टर और नक्सलियों की संलिप्तता रही है। पुलिस के मुताबिक धनबाद के कोयला कारोबारी व नेताओं ने एके-47 की खरीद की है। मुंगेर के डीआईजी जितेंद्र मिश्रा के मुताबिक आर्म्स खपाने के इस सनसनीखेज मामले की पुलिस जांच कर रही है। उन्होने बताया कि पुलिस की एक टीम जांच के लिए जमशेदपुर गई थी। शक के दायरे में आए वहां के एक शख्स को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। पुलिस जांच में सामने आया कि वर्कशॉप के सीनियर इंचार्ज सुरेश ठाकुर, रिटायर्ड आर्मीमैन और सीओडी के आर्मोरर पुरूषोतम रजक एके- 47 की चोरी करते थे। सुरेश ठाकुर ने कुछ कर्मियों की मदद से दीवार में छेद किया था। यह छेद एक पेड़ की आड़ में था, ऐसे में उस पर किसी की नजर नहीं जाती थी। साल 2012 से सुरेश ठाकुर ने खराब एके 47 को गायब करना शुरू कर दिया। खराब हथियार को निकालकर वह पुरूषोतम रजक को देता था। इसके बाद पुरूषोतम उसे ठीक कर मुंगेर के अवैध हथियार डीलरों के पास भेजता था। मुंगेर पुलिस की टीम ने आर्म्स डीलरों के पास से एक डायरी बरामद की है। जिसमें एके-47 की बिक्री का पूरा ब्यौरा रखा गया है। जानकारी के मुताबिक, एके 47 की खरीद करने वाले सफेदपोशों के बारे में इस डायरी में लिखा है।