मिट गई दूरियां, अखिलेश के रथयात्रा समारोह में पहुंचे शिवपाल

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) के भीतर मचे अंदरूनी घमासान के बीच गुरुवार को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने ला मार्टिनियर ग्राउंड पहुंचकर सबको चौंका दिया। उन्होंने इस मौके पर अखिलेश व उनकी रथयात्रा को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इस रथयात्रा के माध्यम से सरकार की उपलब्धियां जनता तक पहुंचेंगी और पार्टी को इसका लाभ चुनाव में मिलेगा।




लॉमार्टिनियर ग्राउंड पर जुटे जनसमूह को संबोधित करते हुए शिवपाल यादव ने ये बातें कही। इस मौके पर सपा के मुखिया मुलायम सिंह यादव के साथ कई वरिष्ठ नेता भी मंच पर मौजूद थे। शिवपाल ने कहा, “अखिलेश के नेतृत्व में रथयात्रा की शुरुआत हो रही है। यह रथयात्रा पूरे उप्र में सरकार की उपलिब्धयों को पहुंचाने का काम करेगी और सरकार के अच्छे कार्यो का संदेश देगी।”उन्होंने कहा कि पिछले चार वर्षो में सरकार ने काफी अच्छे काम किए हैं। नेताजी की कड़ी मेहनत से दोबारा पूरे प्रदेश में सपा की पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगी। हमारा प्रयास है कि उप्र में भाजपा की सरकार न बन पाए। यह युवाओं के सहयोग से ही संभव है।

उन्होंने नौजवानों से अपील करते हुए कहा कि वे पांच नवंबर को पार्टी की रजत जयंती समारोह में भी शिरकत कर उसे सफल बनाएं।

कुछ ही देर में शुरू होगी अखिलेश की रथयात्रा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ‘विकास से विजय की ओर’ रथयात्रा अब से कुछ ही देर में पूर्वाह्न् 11 बजे लामार्टिनियर मैदान से रवाना होगी। पहले इसे सुबह नौ बजे रवाना होना था, लेकिन सुबह इसके समय में अचानक परिवर्तन कर दिया गया। अखिलेश की एक दिवसीय रथयात्रा में लखनऊ जिले की कैन्ट, लखनऊ (पूर्वी) और सरोजनी नगर विधानसभा का क्षेत्र पड़ेगा। मुख्यमंत्री के सरकारी आवास के ठीक सामने लामार्टिनियर मैदान से शुरू होने वाली उनकी यात्रा लखनऊ व उन्नाव के छह विधानसभा क्षेत्रों से गुजरेगी।

करीब 115 किलोमीटर लंबी इस यात्रा में वह 12 स्थानों पर लोगों को संबोधित करेंगे और जगह जगह उनका स्वागत होगा। यात्रा के बाद मुख्यमंत्री लखनऊ वापस आ जाएंगे। दूसरे चरण की यात्रा सात नवंबर से शुरू होगी। लखनऊ के साथ ही उन्नाव में यात्रा मार्ग के स्कूलों को भी आज के लिए बंद कर दिया गया है। ज्ञात हो कि पांच वर्ष के बाद अखिलेश यादव फिर रथयात्रा पर निकल रहे हैं। इस बार वह बतौर मुख्यमंत्री जनता से मुखातिब होंगे और अपने काम के साथ भविष्य का खाका खींचकर समर्थन हासिल करने का प्रयास करेंगे। यात्रा के पहले दिन कहां रुकना है, कहां संबोधित करना है, यह सब खुद अखिलेश ने निर्धारित किया है।




इसके अलावा उन्नाव में मोहान विधानसभा, पुरवा और उन्नाव सदर का विधानसभा क्षेत्र पड़ेगा। मार्ग में आंशिक बदलाव हुआ तो भगवंतनगर विधानसभा क्षेत्र के कुछ गांव भी मार्ग में आएंगे, मगर यह अभी सिर्फ संभावित है। यात्रा के समन्वय का जिम्मा जनेश्वर मिश्र लोहिया के लोक ट्रस्ट के सदस्य सचिव एसआरएस यादव को सौंपा गया है। रथ यात्रा के साथ करीब तीन हजार गाड़ियों का काफिला साथ रहने की संभावना है। यह संख्या बढ़ भी सकती है।

सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ‘विकास से विजय की ओर’ रथ यात्रा को हरी झंडी दिखाकर कुनबे का संग्राम थमने का संदेश देंगे। उनके साथ विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय रहेंगे। इस बीच प्रवक्ता व मंत्री राजेन्द्र चैधरी का कहना है कि यात्रा के जरिए अखिलेश मतदाताओं से दूसरी बार समर्थन मांगेंगे। लखनऊ से उन्नाव तक तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा चुका है। यात्रा में हर वर्ग के लोग शामिल होंगे। जनता मानती है कि बेदाग छवि का कर्मठ मुख्यमंत्री ही उनका सच्चा हमदर्द है। जनता की बुनियादी समस्याओं का समाधान समाजवादी सिद्धांतों पर चलकर हो सकता है।




अखिलेश यादव की रथयात्रा के दौरान मंत्री अरविंद सिंह गोप, मनोज पाण्डेय, कमाल अख्तर, शाहिद मंजूर, रामगोविंद चौधरी, बलराम यादव भी मौजूद रहेंगे।