शिवपाल पर बोले अखिलेश, वापसी करें तो आंख बंद कर पार्टी में लूंगा

akhilesh yadav
शिवपाल पर बोले अखिलेश, वापसी करें तो आंख बंद कर पार्टी में लूंगा

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस कर बहुजन समाज पार्टी के दो नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाई। अखिलेश यादव की मौजूदगी में सपा कार्यालय में शुक्रवार को बसपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दयाराम पाल अपने समर्थकों के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए, वहीं बसपा के कोऑर्डिनेटर रहे मिठाई लाल ने भी सपा ज्वाइन की।

Akhilesh Said On Shivpal I Will Return To The Party :

इस दौरान शिवपाल यादव पर पूछे गए सवाल के जवाब में अखिलेश यादव ने कहा कि हमारे परिवार में लोकतंत्र है। जो पार्टी में आना चाहे हम उसे अपनी पार्टी में शामिल कर लेंगे आंख बंद करके। इसके साथ ही उन्होंने शिवपाल की पार्टी सदस्यता रद्द करने की याचिका को भी वापिस लेने की बात कही। अखिलेश यादव के इस बयान को संकेत माना जा रहा है कि शिवपाल यादव अगर सपा में आते हैं तो उनके लिए भी पार्टी के दरवाजे खुले हैं।

बता दें प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव का मानना है कि परिवार में अभी भी एकता की गुंजाइश है। शुक्रवार को मैनपुरी में शिवपाल सिंह यादव से पूछा गया कि परिवार में एकता की अभी कोई गुंजाइश बची है। इस पर उन्होंने कहा कि मेरी तरफ से पूरी गुंजाइश है, लेकिन कुछ साजिशकर्ता परिवार को एक होने नहीं देना चाह रहे हैं।

इसके साथ ही सपा मुखिया ने एक बार फिर उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा और कहा कि यूपी सरकार का काउंटडाउन शुरू हो गया है। डॉ आंबेडकर, लोहिया जी और कांशीराम जी के सपने को पूरा करने के लिए सपा परिवर्तन का काम करेगी। वहीं चिन्मयानंद की गिरफ्तारी के मामले पर सपा मुखिया का कहना था कि कानून अपना काम करेगा, सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट पीड़ित बेटी को न्याय दिलाएंगे ये हमें विश्वास है।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस कर बहुजन समाज पार्टी के दो नेताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाई। अखिलेश यादव की मौजूदगी में सपा कार्यालय में शुक्रवार को बसपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दयाराम पाल अपने समर्थकों के साथ समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए, वहीं बसपा के कोऑर्डिनेटर रहे मिठाई लाल ने भी सपा ज्वाइन की। इस दौरान शिवपाल यादव पर पूछे गए सवाल के जवाब में अखिलेश यादव ने कहा कि हमारे परिवार में लोकतंत्र है। जो पार्टी में आना चाहे हम उसे अपनी पार्टी में शामिल कर लेंगे आंख बंद करके। इसके साथ ही उन्होंने शिवपाल की पार्टी सदस्यता रद्द करने की याचिका को भी वापिस लेने की बात कही। अखिलेश यादव के इस बयान को संकेत माना जा रहा है कि शिवपाल यादव अगर सपा में आते हैं तो उनके लिए भी पार्टी के दरवाजे खुले हैं। बता दें प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव का मानना है कि परिवार में अभी भी एकता की गुंजाइश है। शुक्रवार को मैनपुरी में शिवपाल सिंह यादव से पूछा गया कि परिवार में एकता की अभी कोई गुंजाइश बची है। इस पर उन्होंने कहा कि मेरी तरफ से पूरी गुंजाइश है, लेकिन कुछ साजिशकर्ता परिवार को एक होने नहीं देना चाह रहे हैं। इसके साथ ही सपा मुखिया ने एक बार फिर उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा और कहा कि यूपी सरकार का काउंटडाउन शुरू हो गया है। डॉ आंबेडकर, लोहिया जी और कांशीराम जी के सपने को पूरा करने के लिए सपा परिवर्तन का काम करेगी। वहीं चिन्मयानंद की गिरफ्तारी के मामले पर सपा मुखिया का कहना था कि कानून अपना काम करेगा, सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट पीड़ित बेटी को न्याय दिलाएंगे ये हमें विश्वास है।