1. हिन्दी समाचार
  2. सपा कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज से आक्रोशित हुए अखिलेश कहा, यह ‘खूनी हमला’ है

सपा कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज से आक्रोशित हुए अखिलेश कहा, यह ‘खूनी हमला’ है

Akhilesh Who Was Angry With Sp By Lathicharge On Sp Workers Said Bloody Attack

By सोने लाल 
Updated Date

लखनऊ। नीट और जेईई परीक्षा को लेकर लगातार प्रदर्शन जारी है। कोरोना महामारी के चलते नीट और जेईई परीक्षा के विरोध में राजभवन जा रहे सपा कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने जमकर भांजी लाठियां। कार्यकर्ताओं पर लाठी चार्ज को लेकर सपा पार्टी केराष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा यह लाठीचार्ज नहीं ‘खूनी हमला’ है। आज देश में बाल-बच्‍चों वाला हर परिवार चिंतित है।

पढ़ें :- श्मशान घाट में महिलाएं करती हैं लाशों का अंतिम संस्कार, चिता जलाकर पाल रहीं हैं परिवार का पेट

अखिलेश यादव ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा-कोरोना काल में परीक्षा कराने के विरोध में सड़कों पर उतरे सपा के कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज नहीं ‘ख़ूनी हमला’ हुआ है। आज बाल-बच्चों वाला हर परिवार चिंतित है। सबका साथ का दावा करने वाले अकेले लोगों की मनमानी कब तक चलेगी।

यही नहीं अखिलेश यादव ने सोमावार दोपहर एक अन्य ट्वीट में इसी मुद्दे को लकर सरकार पर निशाना साधा था। ​अखिलेश यादव ने लिखा था कि जिस प्रकार देश भर के परीक्षार्थियों ने अपनी ‘नापसंदगी’ दर्शा कर अपना रोष दर्ज किया है, उसने साफ़ कर दिया है कि चिंतित युवा और अभिभावक भी चाहते हैं कि सत्ताधारी अपना दंभ त्यागकर परिवारवालों की मांग सुनें। याद रहे पलटे हुए अंगूठे सत्ता भी पलट देते हैं।

इसके पहले सुबह अपने ट्वीट में उन्‍होंने एक शेर के जरिए सरकार पर निशाना साधने की कोशिश की। अखिलेश यादव ने लिखा- ‘कभी-कभी यूं भी रखी जाती है, इंसाफ़’ की आबरू…हिफ़ाज़त में रख लिये जाएं, कुछ फ़ैसलों के फ़ैसले।’

पढ़ें :- कोरोना संकट के कारण इस बार नहीं सजेंगे दुर्गा पूजा के पंडाल, सीएम ने कहा-घर में स्थापित करें मां की मूर्ति

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...