अखिलेश यादव ने की हार की समीक्षा, बोले बेईमानी व भिरतघात से हम हारे

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में हार का मुंह देखने वाले समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों ने इसका ठीकरा ईवीएम के जरिए बेईमानी के साथ ही पार्टी में भितरघात पर फोड़ा है। इसको लेकर कई हारे प्रत्याशियों ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से बाकायदा लिखित शिकायत कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने को भी कहा है।




यादव ने चुनाव में पार्टी की हार की समीक्षा सोमवार को मिर्जापुर मण्डल से शुरू की। उन्होंने अपरिहार्य कारणों से 21 को चित्रकूट और 22 मार्च को झांसी मण्डल की प्रस्तावित समीक्षा बैठक को स्थगित कर दिया। इन मण्डलों की बैठक बाद में होगी।

यादव ने पहले सपा मुख्यालय फिर जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट में मिर्जापुर, भदोही और सोनभद्र के प्रत्याशियों से हार की वजह जानी। उन्होंने एक-एक जिले के हारे प्रत्याशियों, उन जिलों में युवा संगठनों के अध्यक्षों, जिला/महानगर अध्यक्षों और महासचिवों से भी सपा के नतीजों पर जानकारी साझा की। समीक्षा बैठक के लिए यादव पूर्वाह्न 11 बजे ही सपा मुख्यालय पहुंच गये थे। वहां प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने उनका स्वागत किया। इस मौके पर प्रदेश सचिव व एमएलसी अरविन्द सिंह व अन्य नेता भी मौजूद थे।




चुनावी नतीजे आने के बाद यादव पहली बार सपा मुख्यालय आये थे। वे वहां अपने कमरे में करीब आधे घण्टे तक बैठे। फिर पार्टी के प्रदेश सचिव एसआरएस यादव उन्हें जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट लेकर चले गये। वहां पर ही करीब तीन घण्टे तक हार पर मंथन हुआ। कई सीटों के हारे प्रत्याशियों ने तो सीधे तौर से ही ईवीएम में गड़बड़ी होने का आरोप लगा दिया।

इसके पीछे तर्क दिया गया कि मुस्लिम बूथों पर भी भाजपा को वोट मिले। इतना ही पोस्टल बैलट में सपा आगे रही। फिर भी ‘‘हम’ हारे। समीक्षा के दौरान प्रत्याशियों ने बूथवार वोटों की रिपोर्ट, चुनाव में गड़बड़ी करने वाले पार्टीजनों के नाम तथा अन्य जानकारी लिखित रूप में यादव को दी।