बीजेपी के सर्जिकल स्‍ट्राइक फ्लॉप शो : अखिलेश यादव

लखनऊ। यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को कहा कि बीजेपी की सर्जिकल स्‍ट्राइक पूरी तरह से फ्लॉप हुई है। यह बीजेपी का फ्लॉप-शो था। समाजवादी पार्टी को छोड़कर अन्य सभी राजनीतिक पार्टियां सिर्फ अपना उल्लू सीधा करने मे लगी हुई है, यह बात अब जनता को भी समझ मे आ गयी है। यह बात अखिलेश यादव लखनऊ के ईदगाह स्थित इस्लामिक सेंटर ऑफ इंडिया में आयोजित समाजवादी पेंशन योजना के तहत रखे गए एक कार्यक्रम के दौरान कही। अखिलेश यादव इस कार्यक्रम में समाजवादी पेंशन योजना के नए लाभार्थियों को परिचय पत्र देने पहुंचे थे।

समाजवादी पेंशन योजना के बारे में बताते हुए अखिलेश यादव ने बताया कि अब तक इस योजना का लाभ 55 लाख गरीब परिवारों को मिल रहा है। इसके योजना के तहत लाभान्वित हर गरीब परि‍वार को 500 रुपए की मासिक आर्थिक मदद दी जाती है।




अखिलेश यादव ने कहा कि उनकी सरकार समाजवादी पेंशन इसलिए दे रही है क्योंकि नेता जी कहते थे कि बहुत से ऐसे गरीब लोग हैं जिनके पास पहनने के लिए कपड़े नहीं हैं। समाजवादी पार्टी की सरकार बनी तो उन्होंने ऐसा कार्यक्रम चलाया कि माताओं बहनों को समाजवादी पेंशन दी जाए। उनकी सरकार ने बड़ी तादाद में लोगों की मदद की है। आने वाले समय में उनकी दोबारा सरकार बनेगी तो वह निश्चित करेंगे हर गरीब परिवार को इस पेंशन योजना का लाभ मिले। कोई भी सरकार यह पेंशन बंद नहीं कर पाएगी। हमने जनहित के लिए निरंतर कार्य किया है और भविष्य में भी करते रहेंगे।

अखिलेश ने गिनवाईं अपनी सरकार की योजनाएं

सीएम अखिलेश यादव ने अपनी सरकार की उपलब्धियों और योजनाओं को गिनाते हुए कहा कि कल ही उन्होंने ई-रिक्‍शा बांटे हैं। उनकी सरकार बनेगी तो हर गरीबों को दो कमरे का मकान देंगे। हाल ही में लोहिया आवास योजना के तहत लाखों लोगों को घर दिया है। काम के आधार पर समाजवादियों का कोई मुकाबला नहीं कर सकता।

उन्होंने कहा कि लखनऊ में मेट्रो लाना उनकी पार्टी के घोषणा पत्र में नहीं था, लेकिन उनकी सरकार ने आम आदमी को मेट्रो दी। यह मेट्रो सबसे कम समय में बनकर तैयार हो चुकी है। चुनावी जुमले तो सब करते है पर वास्तव मे काम कर उनकी सरकार से कोई मुक़ाबला नहीं कर सकता।




सर्जिकल स्‍ट्राइक में फ्लॉप हुई बीजेपी—

अखिलेश यादव ने कहा बीजेपी यूपी से 73 लोकसभा सीटें जीत ले गई। प्रधानमंत्री यही से चुनकर गए, लेकिन उन्‍होंने यूपी के लिए क्‍या किया? नीति आयोग बनाकर यूपी का बजट कम कर दिया। अब एकबार फिर बीजेपी सर्जिकल स्‍ट्राइक के बहाने आपके पास आई है। ये सर्जिकल स्‍ट्राइक में भी फ्लॉप हो गए। सीमा पर भी और पैसों में भी। इनसे सावधान रहना होगा। लखनऊ में जो विकास होना शुरू हुआ है। वो आगे भी जारी रहेगा।




फकीर को तलाशी तो देनी पड़ेगी- आजम खान

सीएम अखिलेश यादव के साथ ही इस कार्यक्रम के मौजूद रहे यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने भी मौका देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर हमला बोल दिया। उन्होंने कहा कि मोदी कहते हैं मैं फकीर हूं। ये कैसा फकीर है जो दो साल में 80 करोड़ के कपड़े पहन डाले। ऐसा फकीर खुदा सबको बना दे और किसी को बनाए न बनाए उन्हें (आजम को) जरूर बना दे। भला ऐसा फकीर कौन नहीं बनना चाहेगा।

उन्होंने कहा कि बादशाह कहता है कि जब चाहूंगा झाड़कर चल दूंगा। भला ऐसे कैसे जाने देंगे। हम भी तो हिसाब लेंगे। 80 करोड़ रुपए के कपड़े पहनते हैं और ऐसे ही चले जाएंगे। जाने के पहले तलाशी तो देनी ही होगी




हिन्दू और मुस्लिम को बांटना चाहती है बीजेपी

इसके साथ ही आजम खां ने कहा कि जब देश आजाद हुआ था तो दो तरह के लोग थे। एक वे जो देश की आजादी के लिए लड़े। दूसरे वे जो देश को आजाद नहीं होने देना चाहते थे। ये वहीं लोग हैं जिन्होंने गांधी को मारा और गोडसे को मानते हैं। अब एकबार फिर देश बंटवारे की कगार पर खड़ा है क्योंकि बीजेपी हिंदू और मुस्लिम के बीच नफरत की दरार डालना चाहती है। नफरत का बाजार गर्म है। उन्होंने सुब्रमण्यम स्वामी पर भी निशाना साधते हुए कहा कि दूसरों पर सवाल पूछने वाले तुम्हारी बेटी और दामाद पर सवाल क्यों नहीं उठता ?