अखिलेश यादव ने कभी नहीं समझा किसानों का दुख दर्द: बीजेपी

Akhilesh Yadav Never Shows His Concern Toward Farmers

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उप्र सरकार की पहली कैबिनेट बैठक में लघु एवं सीमान्त किसानों के 1 लाख तक की कर्जमाफी को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने किसानों के साथ धोखा करार दिया है। यादव द्वारा ट्वीट कर दी गई इस प्रतिक्रिया पर भाजपा ने प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा कि अखिलेश यादव को राजनीति विरासत में मिली है। उन्होंने किसानों के दुख दर्द को कभी महसूस नहीं किया इसलिए वह नहीं समझ सकते कि किसानों को सरकार के इस फैसले से कितनी खुशी मिली है।



पार्टी की ओर से प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे प्रवक्ता ने कहा कि अखिलेश यादव खेती-किसानी से परे रहे है, उन्हें राजनीति विरासत में मिली। आॅस्ट्रेलिया से शिक्षित अखिलेश उन किसानों की खुशी से वाकिफ नहीं जिन्हें कर्ज माफी से बड़ी राहत मिली है। अखिलेश यादव ने ना तो किसानों के दुख-दर्द को कभी समझा और ना ही उन्हें इस निर्णय से हुई खुशी का अंदाजा है। समाजवादी पार्टी केेवल राजनीतिक विरोध के कारण ही इस बड़े व प्रभावी निर्णय का विरोध कर रही है। इस विरोध से सपा किसानों में अपना बचा-खुचा स्थान भी खो बैठेगी।



इसके आगे पार्टी प्रवक्ता ने कहा कि पन्द्रह वर्षों से प्रदेश का किसान प्राकृतिक आपदाओं, सरकारी कुप्रबंधन से मुफलिसी की कगार पर पहुंच चुका था। कर्ज के बोझ से दबे किसानों के खिलाफ अखिलेश जी ने चीनी मिल मालिकों से सांठगांठ करके उनके ब्याज को हड़पने तक का कुकृत्य किया था, अब जब योगी सरकार ने किसानों की आर्थिक समृद्धि की शुरूआत अपनी पहली कैबिनेट बैठक से ही कर दी है तो अखिलेश द्वारा इसका विरोध समझ से परे है।



पार्टी ने कहा कि अखिलेश यादव वर्तमान में विपक्ष की भूमिका में है, विरोध जताना उनका अधिकार है, लेकिन यह समझ से परे है कि वह सरकार का विरोध कर रहे है या किसानों का?एक तरफ तो उनके गठबंधन की सहयोगी रही कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने इस निर्णय की तारीफ की है वहीं अखिलेश यादव ने इसे धोखा कहा। गठबंधन में परस्पर विरोधाभासी बयानों के क्या निहितार्थ है ?

पार्टी प्रवक्ता ने कहा कि राहुल गांधी को कर्ज माफी पंसद आयी लेकिन अखिलेश को सहयोगी दल की बात भी पंसद नहीं आयी। अखिलेश यादव ने गठबंधन जारी रखने की बात की थी लेकिन इस बड़े फैसले पर भी गठबंधन की गांठे खुलती दिख रही है।

वहीं पार्टी ने यूपी सरकार द्वारा गेंहू की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद को लेकर किए गए फैसले की प्रशंसा करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने किसानों से गेंहू खरीदने के लिए जिस तरह की योजना तैयार की है उससे किसानों को न केवल बिचैलियों से राहत मिलेगी बल्कि आर्थिक समृद्धि भी बढ़ेगी। सरकार की आलू किसानों के लिए की गई ठोस पहल किसानों के प्रति संवेदनशीलता को दिखाती है। योगी सरकार केन्द्र की मोदी सरकार के पदचिन्हों पर चलकर गांव-गरीब किसान के लिए समर्पित रहेगी। इसके संकेत पहली कैबिनेट के फैसलों ने दे दिए हैं।

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उप्र सरकार की पहली कैबिनेट बैठक में लघु एवं सीमान्त किसानों के 1 लाख तक की कर्जमाफी को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने किसानों के साथ धोखा करार दिया है। यादव द्वारा ट्वीट कर दी गई इस प्रतिक्रिया पर भाजपा ने प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा कि अखिलेश यादव को राजनीति विरासत में मिली है। उन्होंने किसानों के दुख दर्द को कभी महसूस नहीं किया इसलिए वह नहीं समझ सकते कि किसानों को सरकार…