अब मायावती को ‘बुआजी’ नहीं यह कहेंगे टीपू भैया

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुक्रवार को बसपा सुप्रीमों मायावती का मजाक उड़ाते हुए कहा कि उन्हें बुआजी कहलाना पसंद नहीं है इसलिए अब वे मायावती को बुआजी न कहकर पत्थरों की सरकार कहकर संबोधित करेंगे। इस दौरान अखिलेश यादव अपनी उपलब्धियों को बताने से नहीं चुके।




दरअसल कल अखिलेश यादव विश्वेश्वरैया हाल में आयोजित कंफेडरेशन ऑफ न्यूज़पेपर एंड न्यूज़ एजेंसी एम्प्लॉईस ऑर्गनाइज़ेशन के कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमों मायावती का जिक्र आने पर चुकी भी ली। अखिलेश यादव ने कहा कि वह मायावती को बुआजी कहते आ रहे हैं लेकिन मायावती को बुआजी कहलाना अच्छा नहीं लगता। वह इस शब्द से नाराज होती हैं। अतः मैंने सोच लिया है कि अब वे मायावती को बुआ जी न कहकर पत्थरों वाली सरकार कहकर संबोधित करेंगे।

इस दौरान अखिलेश यादव ने समाजवादी पार्टी की उपलब्धियों को भी गिनाया। अखिलेश यादव ने कहा कि जबसे वर्ष 2012 में उनकी सरकार बनी है तबसे उनकी सरकार राज्य हित में कार्य करती आई है। इस बात का निर्णय जनता खुद ही कर सकती है कि किस सरकार का काम ज्यादा काबिले तारीफ रहा है।

पत्रकारों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि आज खबरों को लोगों तक पहुंचाना एक बड़ी चुनौती बन गया है। आज हर कोई सोशल मीडिया की मदद से खुद ही खबरों को ब्रॉडकास्ट कर रहा है। आज लोग सोशल साइट्स के आ जाने से देश में घटने वाली घटनाओ से हर पल अपडेट रहते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार पत्रकारों के लिए हरसंभव मदद करनी की सोच रही है और कर भी रही है।

पत्रकारों की मृत्यु हो जाने पर उनके परिवारों को दी जाने वाली राहत धनराशि को बढ़ाकर सरकार ने 20 लाख रुपये कर दिया है। इतना ही नहीं हमारी सरकार पत्रकारों के मकानों के लिए काम कर रही है। ताकि जल्द-जल्द से पत्रकारों को उनका अपना आवास मुहैया हो सके।




Loading...