सपा ने मायावती के आरोपों का किया खंडन, कहा अखिलेश का चरित्र धोखा देने वाला नहीं

sp- bsp
सपा ने मायावती के आरोपों का किया खंडन, कहा अखिलेश का चरित्र धोखा देने वाला नहीं

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया द्वारा संगठन की बैठक के बाद लगातार समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव पर निशाना साधा जा रहा है। जिसके बाद सोमवार को सपा ने बसपा सुप्रीमों के सारे आरोपों को निराधार बताया है। सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि अखिलेश यादव का चरित्र किसी को धोखा देने वाला नहीं है।

Akhileshs Character Defames Mayawatis Accusation Says Sp :

सपा प्रवक्ता ने कहा कि हमारी पार्टी संविधान का सम्मान करते हुए समाजवादी विचारधाराओं को आगे बढ़ाने वाली हैं। उनके मुताबिक अखिलेश यादव कभी ​भी किसी पर व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करते हैं। राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने हमेशा ही गठबंधन धर्म पूरी ईमानदारी के साथ निभाया है। लिहाजा बसपा मुखिया जो धोखेबाजी का आरोप लगा रही हैं, वो पूरी तरीके से निराधार हैं।

बता दें कि बसपा सुप्रीमो मायावती ने सपा से गठबंधन तोड़ने के बाद पहली बार अखिलेश यादव पर हमला बोला था। उन्होने कहा कि गठबंधन के दौरान अखिलेश यादव चाहते थे कि मुस्लिमों को ज्यादा टिकट न दिए जाएं। उनके मुताबिक ऐसा करने से ध्रुवीकरण होगा। मायावती के मुताबिक वो चाहती थीं कि मुस्लिमों को ज्यादा टिकट दिए जाएं।

वहीं बसपा सुप्रीमों ने कहा कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादन ने सतीश चंद्र मिश्र से मुझे मैसेज भिजवाया कि मैं मुस्लिमों को टिकट न दूं, क्योंकि उससे और ध्रुवीकरण होगा। यह भी आरोप लगाया कि मुझे ताज कॉरिडोर केस में फंसाने में भाजपा के साथ मुलायम सिंह यादव का भी अहम रोल था। उन्होंने कहा कि अखिलेश की सरकार में गैर यादव और पिछड़ों के साथ नाइंसाफी हुई। इसलिए उन्होंने वोट नहीं दिया।

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की मुखिया द्वारा संगठन की बैठक के बाद लगातार समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव पर निशाना साधा जा रहा है। जिसके बाद सोमवार को सपा ने बसपा सुप्रीमों के सारे आरोपों को निराधार बताया है। सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि अखिलेश यादव का चरित्र किसी को धोखा देने वाला नहीं है। सपा प्रवक्ता ने कहा कि हमारी पार्टी संविधान का सम्मान करते हुए समाजवादी विचारधाराओं को आगे बढ़ाने वाली हैं। उनके मुताबिक अखिलेश यादव कभी ​भी किसी पर व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करते हैं। राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि समाजवादी पार्टी ने हमेशा ही गठबंधन धर्म पूरी ईमानदारी के साथ निभाया है। लिहाजा बसपा मुखिया जो धोखेबाजी का आरोप लगा रही हैं, वो पूरी तरीके से निराधार हैं। बता दें कि बसपा सुप्रीमो मायावती ने सपा से गठबंधन तोड़ने के बाद पहली बार अखिलेश यादव पर हमला बोला था। उन्होने कहा कि गठबंधन के दौरान अखिलेश यादव चाहते थे कि मुस्लिमों को ज्यादा टिकट न दिए जाएं। उनके मुताबिक ऐसा करने से ध्रुवीकरण होगा। मायावती के मुताबिक वो चाहती थीं कि मुस्लिमों को ज्यादा टिकट दिए जाएं। वहीं बसपा सुप्रीमों ने कहा कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादन ने सतीश चंद्र मिश्र से मुझे मैसेज भिजवाया कि मैं मुस्लिमों को टिकट न दूं, क्योंकि उससे और ध्रुवीकरण होगा। यह भी आरोप लगाया कि मुझे ताज कॉरिडोर केस में फंसाने में भाजपा के साथ मुलायम सिंह यादव का भी अहम रोल था। उन्होंने कहा कि अखिलेश की सरकार में गैर यादव और पिछड़ों के साथ नाइंसाफी हुई। इसलिए उन्होंने वोट नहीं दिया।