1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. CM Yogi पर अखिलेश का कडा प्रहार, कहा- 70 लाख नौकरियों का वादा सिर्फ वादा ही रहा है।

CM Yogi पर अखिलेश का कडा प्रहार, कहा- 70 लाख नौकरियों का वादा सिर्फ वादा ही रहा है।

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव (CM Akhilesh Yadav) ने प्रदेश की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार पर तीखा हमला बोला है। अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा कि इस सरकार में नौजवान परेशान है। सरकान ने उनसे 70 लाख नौकरियों का वादा किया था

By आराधना शर्मा 
Updated Date

उत्तर प्रदेश: यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव (CM Akhilesh Yadav) ने प्रदेश की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार पर तीखा हमला बोला है। अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा कि इस सरकार में नौजवान परेशान है। सरकान ने उनसे 70 लाख नौकरियों का वादा किया था, लेकिन वादा सिर्फ और सिर्फ वादा ही रहा। इतना ही नहीं, अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा कि भाजपा अपनी साख खो चुकी है। वह झूठ का प्रशिक्षण केन्द्र बन गई है।

पढ़ें :- अखिलेश के साथ ओमप्रकाश राजभजर, बोले-बंगाल में 'खेला होबे' तो यूपी में चलेगा 'खदेड़ा होबे'

जनता से वादे करके भूल जाना भाजपा का चरित्र हो गया है। यह जनता को धोखा देना है। अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने कहा, डॉ. राममनोहर लोहिया मानते थे कि वादाखिलाफी भ्रष्टाचार की श्रेणी में आता है। इस हिसाब से भाजपा बड़ी भ्रष्टाचारी पार्टी है जिसने अपने संकल्प पत्र में किए गए वादे भी भुला दिए हैं। इतना ही नहीं, अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav)  ने योगी सरकार से सवाल भी पूछे।

अखिलेश ने पूछा आखिर भाजपा अपने संकल्प पत्र को क्यों नहीं पूरा किया है? किसानों-नौजवानों के लिए जो वादे किए गए क्यों भुला दिए गए? किसान की न तो कर्जमाफी हुई, न उसे फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य मिला और नहीं किसान की आय दुगनी हुई?

पूर्व सीएम ने कहा कि आज भी गन्ना किसान अपने बकाया के लिए परेशान घूम रहा है। 10 हजार करोड़ रूपए से ज्यादा उसका बकाया हैं। मिल मालिकों को ही भाजपा सरकार में राहत मिल रही है। गन्ना किसान को तो लागत मूल्य भी नहीं दिया जा रहा है। गन्ना बकाया का ब्याज क्यों नहीं दिया जा रहा है? उन्होंने कहा कि नौजवान परेशान है उनसे 70 लाख नौकरियों का वादा किया गया वह सिर्फ वादा ही रहा है। प्रदेश में न नौकरियां हैं न नए उद्योग आ रहे हैं कि रोजगार पैदा हो। बल्कि जो उद्योग लगे हैं, वे भी बंद होने के कगार पर है। नौकरियां मांगने पर युवाओं पर लाठी पड़ती है। नोटबंदी-जीएसटी से व्यापार चौपट है। व्यापारी कर्ज में दब गए गए हैं। बुनकरों का धंधा चौपट है।

यादव ने कहा कि जिस भाजपा ने अपने संकल्प-पत्र को कूड़े दान में फेंक दिया, जनता उसे फिर क्यों समर्थन देना चाहिए? समाजवादी सरकार का काम पहले भी बोल रहा था, काम आगे भी बोलेगा। इस बार जनता ने मन बना लिया है कि जो प्रदेश को विकास, तरक्की और खुशहाली के रास्ते पर ले जाएगी जो किसानों का सम्मान करेगी, जो युवाओं को हाथ में नौकरी और रोजगार देगी, ऐसे समाजवादी पार्टी को जनता इस बार मौका देने जा रही है। जनता इस बार समाजवादी पार्टी को 400 सीटें देने के लिए संकल्पित है। भाजपा की बुरी तरह हार विधानसभा चुनावों में सुनिश्चित है।

 

पढ़ें :- UP Election 2022: बसपा के कद्दावर नेता रहे रामअचल राजभर और लालजी वर्मा सपा में हुए शामिल
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...