आतंकी के जनाजे में शामिल लोगों ने की पत्थरबाजी, झड़प में 15 घायल

kashmir
आतंकी के जनाजे में शामिल लोगों ने की पत्थरबाजी, झड़प में 15 घायल

नई दिल्ली। दक्षिण कश्मीर के शोपियां में मुठभेड़ में मारे गए मोस्ट वांटेड आतंकी जीनत और उसके साथी के जनाजे में शामिल होने आ रहे आतंकी समर्थक तत्व उग्र हो गए। जिसके बाद प्रदर्शनकारियों के साथ सुरक्षाबलों की झड़प हो गयी कथित तौर पर सुरक्षाबलों की कार्रवाई में करीब एक दर्जन लोग घायल हो गए। सुरक्षा बलों पर पथराव के बाद स्थिति को काबू में करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे गए। इसके बाद भी स्थिति नहीं संभली तो पैलेट गन चलाए गए। हिंसक झड़पों में दर्जनभर से अधिक लोग घायल हुए हैं। इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है।

Al Badr Militant Zeenat Ul Islam Funeral Stone Pelters Pelted Stones On Security Forces :

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि शनिवार को मुठभेड़ में मारे गए अल-बदर के कमांडर जीनत-उल-इस्लाम के जनाजे के दौरान शोपियां जिले के सुगन गांव में जगह-जगह जनाजे की नमाज पढ़ी जा रही थी। इस दौरान युवकों के समूह और सुरक्षाबलों के बीच झड़प शुरू हो गई। सुगन इस्लाम का पैतृक गांव है।

अधिकारियों ने कहा कि लोगों को इकट्ठा होने से रोकने के लिए जब सुरक्षाबलों ने उन्हें हटाना शुरू किया तो झड़प होने लगी। उन्होंने कहा कि सुरक्षाबलों की कार्रवाई में कम से कम एक दर्जन लोग घायल हो गए। अधिकारी ने बताया कि घायलों को पास के अस्पताल में ले जाया गया, जहां से चार लोगों को यहां एसएमएचएस अस्पताल रिफर कर दिया।

शनिवार को सुरक्षाबलों ने कठपोरा कुलगाम में अल-बदर के 12 लाख के इनामी आतंकी जीनत उल इस्लाम उर्फ अलकामा को उसके साथी फैसल को मार गिराया था। दोनों आतंकी सुगन चिलीपोरा शोपियां के रहने वाले थे। जीनत कश्मीर में सक्रिय मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची में तीसरे नंबर पर था। 2017 में सुरक्षाबलों द्वारा जारी 12 मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची में शामिल 10 आतंकी मारे जा चुके हैं। ऐसे में लिस्ट में शामिल अब दो ही आतंकी रियाज नायकू और जाकिर मूसा ही बचे हैं। जीनत और फैसल का शव आधी रात के बाद ही उनके परिजनों के हवाले कर दिया गया था।

नई दिल्ली। दक्षिण कश्मीर के शोपियां में मुठभेड़ में मारे गए मोस्ट वांटेड आतंकी जीनत और उसके साथी के जनाजे में शामिल होने आ रहे आतंकी समर्थक तत्व उग्र हो गए। जिसके बाद प्रदर्शनकारियों के साथ सुरक्षाबलों की झड़प हो गयी कथित तौर पर सुरक्षाबलों की कार्रवाई में करीब एक दर्जन लोग घायल हो गए। सुरक्षा बलों पर पथराव के बाद स्थिति को काबू में करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे गए। इसके बाद भी स्थिति नहीं संभली तो पैलेट गन चलाए गए। हिंसक झड़पों में दर्जनभर से अधिक लोग घायल हुए हैं। इलाके में तनाव की स्थिति बनी हुई है। पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि शनिवार को मुठभेड़ में मारे गए अल-बदर के कमांडर जीनत-उल-इस्लाम के जनाजे के दौरान शोपियां जिले के सुगन गांव में जगह-जगह जनाजे की नमाज पढ़ी जा रही थी। इस दौरान युवकों के समूह और सुरक्षाबलों के बीच झड़प शुरू हो गई। सुगन इस्लाम का पैतृक गांव है। अधिकारियों ने कहा कि लोगों को इकट्ठा होने से रोकने के लिए जब सुरक्षाबलों ने उन्हें हटाना शुरू किया तो झड़प होने लगी। उन्होंने कहा कि सुरक्षाबलों की कार्रवाई में कम से कम एक दर्जन लोग घायल हो गए। अधिकारी ने बताया कि घायलों को पास के अस्पताल में ले जाया गया, जहां से चार लोगों को यहां एसएमएचएस अस्पताल रिफर कर दिया। शनिवार को सुरक्षाबलों ने कठपोरा कुलगाम में अल-बदर के 12 लाख के इनामी आतंकी जीनत उल इस्लाम उर्फ अलकामा को उसके साथी फैसल को मार गिराया था। दोनों आतंकी सुगन चिलीपोरा शोपियां के रहने वाले थे। जीनत कश्मीर में सक्रिय मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची में तीसरे नंबर पर था। 2017 में सुरक्षाबलों द्वारा जारी 12 मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची में शामिल 10 आतंकी मारे जा चुके हैं। ऐसे में लिस्ट में शामिल अब दो ही आतंकी रियाज नायकू और जाकिर मूसा ही बचे हैं। जीनत और फैसल का शव आधी रात के बाद ही उनके परिजनों के हवाले कर दिया गया था।