भारत में यहूदियों और इस्राइलियों पर हमले की साजिश रच रहे हैं अल कायदा-IS के आतंकी

is
भारत में यहूदियों और इस्राइलियों पर हमले की साजिश रच रहे हैं अल कायदा-IS के आतंकी

नई दिल्ली। खुफिया एजेंसियों ने चेतावनी दी है कि आतंकी संगठन अलकायदा और आइएस से जुड़े धड़ों ने भारत में यहूदियों (ज्यूज) और इजरायली समुदाय के लोगों पर आतंकी हमले की साजिश रची है। खुफिया विभाग ने गुरुवार को अलर्ट जारी किया। यह हमले सितंबर और अक्टूबर में आने वाले यहूदियों के तीन बड़े त्योहारों के दौरान हो सकते हैं। इस साजिश में अलकायदा और आईएस के अलावा कई और बड़े अंतरराष्ट्रीय आंतकी संगठन भी शामिल हैं।  

Al Qaeda And Is Plot Conspiracy To Attacks On Jews Israelis In India :

आर्टिकल-370 के समर्थन के चलते निशाने पर

भारतीय खुफिया एजेंसियों को दूसरे देशों की खुफिया एजेंसियों से जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक इन आतंकी संगठनों ने इजरायलियों को निशाना बनाने के लिए कुछ टारगेट तय किया है, जहां उनकी मौजूदगी ज्यादा होने की संभावना है। इनमें दिल्ली स्थित इजरायली दूतावास भी शामिल है। इसके अलावा वे स्कूल और होटल भी अल-कायदा और इस्लामिक स्टेट के निशाने पर हैं, जहां इजरायली ज्यादा मौजूद होते हैं।

सूत्रों के मुताबिक ये आतंकी संगठन इजरायल से इसलिए ज्यादा भड़के हुए हैं, क्योंकि उसने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का समर्थन किया है। जानकारी के मुताबिक, ‘अल-कायदा और आईएस से जुड़े आतंकवादी पूरी दुनिया में इजरायली ठिकानों पर बड़े हमले के फिराक में हैं। इसको देखते हुए भारत में वे नई दिल्ली स्थित इजरायली दूतावास के अलावा दिल्ली और दूसरे शहरों में उन जगहों पर हमला कर सकते हैं, जहां ज्यादा इजरायली मौजूद होते हैं, जिनमें यहूदी स्कूलों, रेस्टोरेंट्स और होटल शामिल हैं।’

यहूदियों के तीन त्योहार सितंबर और अक्टूबर में

यहूदियों के तीन त्योहार सितंबर और अक्टूबर के महीनों में पड़ते हैं। रोश हाशनाह (यहूदियों का नववर्ष) 29 सितंबर से एक अक्टूबर तक चलता है। योम किप्पूर (यूदाइज्म का सबसे पवित्र दिन है) आठ और नौ अक्टूबर को पड़ता है, जबकि सुक्कोत को 13 अक्टूबर और 22 अक्टूबर को मनाया जाता है।

इजरायलियों पर हमला करने को आतुर आतंकी

सूत्रों का कहना है कि आतंकी संगठन भारत में रह रहे इजरायलियों पर हमला करने को आतुर हैं। चूंकि इजरायल ने जम्मू और कश्मीर से अनुच्छेद 370 व 35ए हटाने पर भारत का पुरजोर समर्थन किया है। यहूदियों के त्योहारी महीने सितंबर और अक्टूबर में बड़ी तादाद में इजरायली पर्यटक और इस समुदाय के भारतीय देश में कुछ खास तारीखों में कुछ खास जगहों पर एकत्र होते हैं।

नई दिल्ली। खुफिया एजेंसियों ने चेतावनी दी है कि आतंकी संगठन अलकायदा और आइएस से जुड़े धड़ों ने भारत में यहूदियों (ज्यूज) और इजरायली समुदाय के लोगों पर आतंकी हमले की साजिश रची है। खुफिया विभाग ने गुरुवार को अलर्ट जारी किया। यह हमले सितंबर और अक्टूबर में आने वाले यहूदियों के तीन बड़े त्योहारों के दौरान हो सकते हैं। इस साजिश में अलकायदा और आईएस के अलावा कई और बड़े अंतरराष्ट्रीय आंतकी संगठन भी शामिल हैं।   आर्टिकल-370 के समर्थन के चलते निशाने पर भारतीय खुफिया एजेंसियों को दूसरे देशों की खुफिया एजेंसियों से जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक इन आतंकी संगठनों ने इजरायलियों को निशाना बनाने के लिए कुछ टारगेट तय किया है, जहां उनकी मौजूदगी ज्यादा होने की संभावना है। इनमें दिल्ली स्थित इजरायली दूतावास भी शामिल है। इसके अलावा वे स्कूल और होटल भी अल-कायदा और इस्लामिक स्टेट के निशाने पर हैं, जहां इजरायली ज्यादा मौजूद होते हैं। सूत्रों के मुताबिक ये आतंकी संगठन इजरायल से इसलिए ज्यादा भड़के हुए हैं, क्योंकि उसने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का समर्थन किया है। जानकारी के मुताबिक, 'अल-कायदा और आईएस से जुड़े आतंकवादी पूरी दुनिया में इजरायली ठिकानों पर बड़े हमले के फिराक में हैं। इसको देखते हुए भारत में वे नई दिल्ली स्थित इजरायली दूतावास के अलावा दिल्ली और दूसरे शहरों में उन जगहों पर हमला कर सकते हैं, जहां ज्यादा इजरायली मौजूद होते हैं, जिनमें यहूदी स्कूलों, रेस्टोरेंट्स और होटल शामिल हैं।' यहूदियों के तीन त्योहार सितंबर और अक्टूबर में यहूदियों के तीन त्योहार सितंबर और अक्टूबर के महीनों में पड़ते हैं। रोश हाशनाह (यहूदियों का नववर्ष) 29 सितंबर से एक अक्टूबर तक चलता है। योम किप्पूर (यूदाइज्म का सबसे पवित्र दिन है) आठ और नौ अक्टूबर को पड़ता है, जबकि सुक्कोत को 13 अक्टूबर और 22 अक्टूबर को मनाया जाता है। इजरायलियों पर हमला करने को आतुर आतंकी सूत्रों का कहना है कि आतंकी संगठन भारत में रह रहे इजरायलियों पर हमला करने को आतुर हैं। चूंकि इजरायल ने जम्मू और कश्मीर से अनुच्छेद 370 व 35ए हटाने पर भारत का पुरजोर समर्थन किया है। यहूदियों के त्योहारी महीने सितंबर और अक्टूबर में बड़ी तादाद में इजरायली पर्यटक और इस समुदाय के भारतीय देश में कुछ खास तारीखों में कुछ खास जगहों पर एकत्र होते हैं।