1. हिन्दी समाचार
  2. अलीगढ़ कांड: मासूम से दरिंदगी के बाद पुलिस की कहानी में नया मोड़, बड़े अफसरों पर मेहरबानी बरकरार

अलीगढ़ कांड: मासूम से दरिंदगी के बाद पुलिस की कहानी में नया मोड़, बड़े अफसरों पर मेहरबानी बरकरार

Aligarh Child Murder Case Twinkle

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में एक ढाई साल की मासूम के साथ हुई दरिंदगी ने पूरी इंसानियत को शर्मशार कर दिया है। मासूम ट्विंकल को इंसाफ दिलाने के लिए सोशल मीडिया पर प्रोटेस्ट शुरू हो गया है। वहीं, इस पूरे मामले में सबसे बड़ी लापरवाही पुलिस की सामने आई है, जिसमें छोटे प्यादों पर कार्रवाई कर यूपी पुलिस ने अपना पल्ला झाड लिया है। हालांकि एडीजी लॉं एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने इस मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया है और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात भी कही है। फॉरेंसिक साइंस टीम, स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप और विशेषज्ञों की एक टीम को भी एसआईटी में शामिल किया गया है। इस मामले में एसआईटी फास्ट ट्रैक आधार पर कार्रवाई करेगी।

पढ़ें :- अंडरवर्ल्ड ले डूबा इन 5 अभिनेत्रियों का करियर, कोई गई जेल, तो कोई बनी संन्यासिनी

वहीं इस घटना में पुलिस के बयान से नया मोड़ आ गया है। अलीगढ़ पुलिस ने बच्ची के साथ बलात्कार और तेजाब डालने की घटना से इनकार किया है। पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए सोशल मीडिया बच्ची को लेकर जो बातें लिखी जा रही है उससे खंडन किया है।

दरअसल, बच्ची बीती 30 मई को लापता हो गई थी, जिसके बाद उसके परिजनों ने उसे खोजना शुरू किया लेकिन वह कहीं नहीं मिली। इसके बाद परिजन थाने गए तो पुलिस ने 31 मई को गुमशुदगी दर्ज कर छानबीन शुरू की। दो दिन बाद जब उसका क्षत विक्षत शव मिला तो परिवार ने जाहिद को हत्यारोपी बताते हुए मुकदमा दर्ज करा दिया। दो दिन की पड़ताल के बाद पुलिस ने जाहिद और उसके साथ ही असलम को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में हकीकत सामने आने पर पुलिस ने दोनों को जेल भेज दिया है।

ये है पूरा मामला

मृतक बच्ची के परिजनों का कहा है कि ट्विंकल की हत्या की वजह महज दस हजार रुपए के लेनदेन का विवाद था। हत्यारोपी जाहिर बनवारी का पड़ोसी है। उसने बनवारी के पिता कन्हैया लाल से किसी काम के लिए दस हजार रुपए उधार लिए थे। जब रुपए वापस मांगे तो दोनों के बीच विवाद हो गया। दो दिन बाद जब उसका क्षत विक्षत शव मिला तो परिवार ने जाहिद को ही हत्यारोपी बताते हुए मुकदमा दर्ज करा दिया।

एसएसपी आकाश कुलहरि ने बताया कि दोनों गिरफ्तार आरोपियाें के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगाने की कार्रवाई की जा रही है। इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में कराने का प्रयास करेंगे। घटना के बाद संबंधित थाने के पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है।

पढ़ें :- इन अभिनेत्रियों ने अपने दम पर बनाई बॉलीवुड में पहचान, नंबर 1 को मिल चुके है 3 नेशनल अवॉर्ड

वहीं बच्ची की मां शिल्पा ने मोदी और योगी सरकार से दोषियों को कड़ी सजा दिए जाने की मांग की है। उन्होंने कहा, ‘हम चाहते हैं कि उन्हें मौत की सजा मिले। अन्यथा वे सात साल बाद बाहर आ जाएंगे और फिर इस तरह का दुस्साहस करेंगे।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...